कांग्रेस ने जात-पात और धर्म की राजनीति के कारण राम मंदिर विवाद हल नहीं किया: अमित शाह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2019   15:37
कांग्रेस ने जात-पात और धर्म की राजनीति के कारण राम मंदिर विवाद हल नहीं किया: अमित शाह

नरेन्द्र मोदी सरकार की प्रशंसा करते हुए केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि केन्द्र में जैसे ही मोदी की सरकार बनी, मामले की पैरवी की गयी और अयोध्या में गगनचुंबी राम मंदिर बनाने के पक्ष में फैसला आ गया।

चतरा (झारखंड)। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को राम मंदिर मामले में कांग्रेस पर जबर्दस्त हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि पार्टी नीत सरकारों ने जातपात एवं धर्म की राजनीति के कारण दशकों तक इस विवाद को लटकाये रखा, इसका समाधान नहीं हुआ। 

नरेन्द्र मोदी सरकार की प्रशंसा करते हुए केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि केन्द्र में जैसे ही मोदी की सरकार बनी, मामले की पैरवी की गयी और अयोध्या में गगनचुंबी राम मंदिर बनाने के पक्ष में फैसला आ गया। शाह ने कहा, ‘‘पूरे देश की जनता चाहती थी कि अयोध्या में प्रभु श्रीराम का भव्य मंदिर बने। पूरे देश के साथ झारखंड की जनता भी ऐसा ही चाहती थी लेकिन मंदिर बनाने का रास्ता क्यों नहीं प्रशस्त हो पाता था?’’

इसे भी पढ़ें: वाह रे नेताओं ! गरीब की थाली से प्याज गायब हो गया और आप चुप बैठे हैं

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस पार्टी रोड़े अटकाती रही कि अदालत में मुकदमा ना चले। कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल निर्लज्ज होकर देश की सर्वोच्च अदालत में कह रहे थे कि अभी मुकदमे की सुनवाई अभी ना करें, 2019 के बाद करें। क्यों नहीं करें सुनवाई? इतने साल से मुकदमा लटका पड़ा है। प्रभु श्रीराम तिरपाल के नीचे बैठे हुए हैं, मुकदमा क्यों नहीं चलाना?’’ शाह ने कहा, ‘‘मुकदमे की सुनवाई होनी चाहिए या नहीं अब यह पुराना सवाल है। मित्रों मैं आपको बताने आया हूं कि मुकदमे की सुनवाई हुई। और न्यायालय ने सर्वसम्मति से फैसला सुना दिया कि प्रभु श्रीराम का गगनचुंबी भव्य मंदिर बनने जा रहा है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।