कांग्रेस कोरोना जैसे संवेदनशील मुद्दे का भी कर रही है राजनीतिकरण: जय राम ठाकुर

कांग्रेस कोरोना जैसे संवेदनशील मुद्दे का भी कर रही है राजनीतिकरण: जय राम ठाकुर

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि महामारी के फैलने से पहले प्रदेश में केवल 50 वेंटिलेटर थे जिनकी संख्या आज बढ़कर 700 हो गई है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पीएमकेयर योजना के अन्तर्गत प्रदेश को एक साथ 500 वेंटिलेटर प्रदान किए।

करसोग। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने गुरुवार को मंडी जिले के करसोग विधानसभा क्षेत्र के चुराग में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए प्रदेश सरकार ने प्रभावी कदम उठाए है लेकिन कांग्रेस पार्टी के नेता इस संवेदनशील मुद्दे का भी राजनीतिकरण कर रहे हैं। वे इस मुद्दे का राजनीतिक लाभ उठाने का प्रयास कर रहे है लेकिन प्रदेश के लोग भलीभांति जानते है कि संकट के इस समय में राज्य सरकार ने लोगों को समुचित सुविधाएं प्रदान कर महामारी से निपटने के लिए हर संभव प्रयास किए हैं। इस महामारी के फैलने से पहले प्रदेश में केवल 50 वेंटिलेटर थे जिनकी संख्या आज बढ़कर 700 हो गई है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पीएमकेयर योजना के अन्तर्गत प्रदेश को एक साथ 500 वेंटिलेटर प्रदान किए। उन्होंने इस महामारी से दौरान बेहतर कार्य करने के लिए अग्रिम पंक्ति के योद्धाओं जैसे चिकित्सकों, पैरामेडिकल स्टाफ, नर्सों, सफाई कर्मचारियों और पुलिस बल का आभार व्यक्त किया। 

इसे भी पढ़ें: कैमरों के साथ चाक चौबंद होगी हिमाचल विधानसभा की सुरक्षा व्यवस्था: विपिन सिंह परमार 

जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार सुनिश्चित कर रही है कि महामारी के बावजूद विकास कार्य निर्बाध रूप से जारी रहें। प्रदेश सरकार का एकमात्र उद्देश्य राज्य का समग्र और समुचित विकास सुनिश्चित करना है। उन्होंने कहा कि महिलाओं को सामाजिक सुरक्षा पेंशन के लिए आयु सीमा को 70 वर्ष से घटाकर 65 वर्ष किया गया है। अब 65-69 आयु वर्ग की पात्र महिलाएं बिना आय सीमा के सामाजिक सुरक्षा पेंशन का लाभ मिलेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल देश का पहला धुआंरहित राज्य बना है जहां सभी घरों में गैस कनैक्शन प्रदान किए गए हैं। गृहिणी सुविधा योजना के अन्तर्गत लगभग 3.17 लाख परिवारों का निःशुल्क गैस कनैक्शन प्रदान किए गए हैं। शगुन योजना के अन्तर्गत बीपीएल परिवारों की बेटियों को विवाह के समय 31 हजार रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है।

बग्सयाड़ में जनसभा को सम्बोधित करते हुए जय राम ठाकुर ने कहा कि पिछले दिन इस क्षेत्र के लिए करसोग से उन्होंने 37 करोड़ रुपये की विकासात्मक परियोजनाएं समर्पित कीं जिनमें 20.30 करोड़ रुपये की आधारशिलाएं और दो करोड़ रुपये की उठाऊ सिंचाई योजना शामिल हैं। इन सभी योजनाओं के कार्य निर्धारित समय पर पूर्ण किए जाएंगे ताकि क्षेत्र के लोग इन सुविधाओं का लाभ उठा सकें। उन्होंने कहा कि करसोग क्षेत्र के लिए 27 करोड़ रुपये की जलापूर्ति योजना से क्षेत्र में पानी की समस्या का समाधान होगा। उन्होंने अधिकारियों को इन सभी परियोजनाओं में गुणवत्तापूर्ण निर्माण कार्य सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। 

इसे भी पढ़ें: कोविड की संभावित तीसरी लहर से बचाव के दृष्टिगत जिलों के साथ समीक्षा बैठक आयोजित 

जय राम ठाकुर ने पूर्व मंत्री कौल सिंह ठाकुर पर आरोप लगाया कि वह प्रदेश सरकार के विरूद्ध अफवाहें फैलाकर जिला के लोगों को गुमराह कर रहे हैं। प्रदेश के लोग कांग्रेसी नेताओं के झूठे हथकंडों से भलीभांति परिचित हैं और वे उनके बहकावे में नहीं आएंगे। कांग्रेसी नेताओं ने अपनी पार्टी को भी नहीं बख्शा और कोरोना महामारी के दौरान लोगों को मास्क और सैनेटाइजर वितरित करने के नाम पर 12 करोड़ रुपये का बिल बनाया। उन्होंने कहा कि एक समय था जब देश में एक पीपीई किट का उत्पादन ही नहीं होता था लेकिन आज प्रतिदिन 15 लाख से अधिक पीपीई किट्स का उत्पादन किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को याद करते हुए उनके साथ अपनी मधुर स्मृतियों को साझा किया। मुख्यमंत्री ने माहुंनाग में जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार उन क्षेत्रों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है जो किन्हीं कारणों से विकास की दृष्टि से वंचित रहे हैं। उन्होंने कहा कि माहुंनाग क्षेत्र न केवल धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है बल्कि अत्यन्त मनोरम भी है। इस क्षेत्र को नई राहें नई मंजिलें के अन्तर्गत पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाएगा और यहां बैंक की एक शाखा खोलने के प्रयास भी किए जाएंगे। उन्होंने माहुनाग में जल शक्ति विभाग के कनिष्क अभियन्ता अनुभाग और क्षेत्र में हेलीपैड खोलने की भी घोषणा की।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।