पेगासस के खिलाफ अमित शाह के आवास के बाहर कांग्रेस का प्रदर्शन, दिल्ली पुलिस ने अनिल चौधरी को हिरासत में लिया

पेगासस के खिलाफ अमित शाह के आवास के बाहर कांग्रेस का प्रदर्शन, दिल्ली पुलिस ने अनिल चौधरी को हिरासत में लिया

गृह मंत्री अमित शाह के आवास पर विरोध प्रदर्शन करने वाले अनिल चौधरी और कांग्रेस कार्यकर्ताओं को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। जिसका वीडियो कांग्रेस ने अपने ट्विटर हैंडल पर साझा किया है।

नयी दिल्ली। पेगासस जासूसी विवाद को लेकर मामला और भी ज्यादा गर्माता जा रहा है। इसी बीच कांग्रेस ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के आवास का घेराव किया। दिल्ली कांग्रेस इकाई के अध्यक्ष अनिल चौधरी के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओं ने गृह मंत्री के खिलाफ नारेबाजी की और इस्तीफे की भी मांग की। 

इसे भी पढ़ें: राहुल पर भाजपा का तंज, राठौर बोले- वह नहीं चाहते कि लोकतंत्र सही तरह से चले 

वहीं, कांग्रेस ने दिल्ली पुलिस पर अनिल चौधरी के घर की पहरेदारी करने का भी आरोप लगाया। कांग्रेस की दिल्ली इकाई ने ट्वीट किया कि मोदी सरकार द्वारा राहुल गांधी की जासूसी करने के खिलाफ आवाज उठाने पर अमित शाह की दिल्ली पुलिस अनिल चौधरी के घर पर सुबह से ही पहरेदारी कर रही है और अब पुलिस ने उन्हें मंदिर मार्ग पर कैद कर लिया है। लेकिन हम राहुल गांधी के सिपाही है, डरेंगे नहीं।

आपको बता दें कि गृह मंत्री अमित शाह के आवास पर विरोध प्रदर्शन करने वाले अनिल चौधरी और कांग्रेस कार्यकर्ताओं को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। जिसका वीडियो कांग्रेस ने अपने ट्विटर हैंडल पर साझा किया है। इस दौरान कांग्रेस ने दिल्ली पुलिस पर बदसलूकी करने का भी आरोप लगाया है।

फोटो साझा करते हुए कहा गया कि प्रदेश इकाई के अध्यक्ष अनिल चौधरी एवं दिल्ली प्रदेश महिला कांग्रेस की अध्यक्षा अमृता धवन के साथ दिल्ली पुलिस ने बदसलूकी की। मगर हम चुप बैठने वालों में से नहीं हैं। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर सिद्धू को पाकिस्तान से भी मिली बधाई, सियासी दलों ने साधा निशाना 

गौरतलब है कि विदेशी मीडिया ने दावा किया था कि केवल सरकारी एजेंसियों को ही बेचे जाने वाले इजराइल के जासूसी साफ्टवेयर के जरिए भारत के दो केन्द्रीय मंत्रियों, 40 से अधिक पत्रकारों, राहुल गांधी समेत 3 विपक्षी नेताओं और एक न्यायाधीश सहित बड़ी संख्या में कारोबारियों और अधिकार कार्यकर्ताओं के 300 से अधिक मोबाइल नंबर हो सकता है कि हैक किए गए हों।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।