गोवा बार विवाद पर स्मृति ईरानी का पलटवार, कांग्रेस के खिलाफ बोलती हूं इस लिए बनाया गया मेरी बेटी को निशाना

Smriti Irani
ANI
रेनू तिवारी । Jul 24, 2022 12:11PM
केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी पहली बार विवादों में नहीं आयी हैं इससे पहले भी केंद्रीय मंत्री ने कई बार अपनी डिग्री और बयानों को लेकर विवादों का सामना किया है और अपने आप को सही भी साबित किया हैं। इस बार विवाद स्मृति ईरानी की बेटी से जुड़ा हैं।

नयी दिल्ली। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी पहली बार विवादों में नहीं आयी हैं इससे पहले भी  केंद्रीय मंत्री ने कई बार अपनी डिग्री और बयानों को लेकर विवादों का सामना किया है और अपने आप को सही भी साबित किया हैं। इस बार विवाद  स्मृति ईरानी की बेटी से जुड़ा हैं जिसके लिए राजनीति में कांग्रेस स्मृति ईरानी को घेर रही हैं। कांग्रेस ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की पुत्री पर गोवा में अवैध बार चलाने का आरोप लगाया है और मांग की हैं कि वह अपने पद से इस्तीफा दे। उन्होंने केंद्र सरकार से भी ये मांग की है कि वह स्मृति ईरानी को अपने मंत्रिमंडल से ईरानी को बर्खास्त करें। 

स्मृति ईरानी ने कांग्रेस को दिया मुहतोड़ जवाब

स्मृति ईरानी ने कांग्रेस के इस आरोप को दुर्भावनापूर्ण करार दिया और उस पलटवार करते हुए दावा किया कि नेशनल हेराल्ड मामले में सोनिया और राहुल गांधी की ‘‘5,000 करोड़ रुपये की लूट’’ पर उनके मुखर रुख के कारण उनकी बेटी को निशाना बनाया गया है।

इसे भी पढ़ें: नीरज चोपड़ा ने विश्व चैम्पियनशिप में रजत जीतकर रचा इतिहास, PM मोदी ने दी बधाई

कांग्रेस ने लगाए स्मृति ईरानी पर गंभीर आरोप, मंत्रीमंडल से बर्खास्त करने की मांग

कांग्रेस के मीडिया एवं प्रचार प्रमुख पवन खेड़ा ने संवाददाताओं से कहा, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के परिवार पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं। गोवा में उनकी बेटी द्वारा चलाए जा रहे रेस्त्रां पर शराब परोसने के लिए फ़र्ज़ी लाइसेंस जारी करवाने का आरोप लगा है और यह कोई ‘सूत्रों के हवाले से’ अथवा एजेंसियों द्वारा राजनीतिक प्रतिशोध लेने के लिए लगाया गया आरोप नहीं है, बल्कि सूचना का अधिकार (आरटीआई) के तहत प्राप्त जानकारी में खुलासा हुआ है। उन्होंने दावा किया, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की बेटी ने अपने ‘सिली सोल्स कैफे एंड बार’ के लिए फ़र्ज़ी दस्तावेज़ देकर बार लाइसेंस जारी करवाए। कांग्रेस नेता के अनुसार, 22 जून 2022 को लाइसेंस के नवीनीकरण के लिए जिस एंथनी डीगामा के नाम से आवेदन किया गया,उनकी पिछले साल मई में ही मौत हो चुकी है। एंथनी के आधार कार्ड से पता चला है कि वे मुंबई के विले पार्ले के निवासी थे। आरटीआई के तहत सूचना मांगने वाले वकील को इनका मृत्यु प्रमाण-पत्र भी मिला है। उन्होंने कहा, हम प्रधानमंत्री से मांग करते हैं कि तत्काल प्रभाव से स्मृति ज़ुबिन ईरानी को मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया जाए। खेड़ा ने यह सवाल भी किया, ‘‘स्मृति ईरानी को बताना चाहिए ये धांधली किसके इशारे पर हो रही है? अवैध कार्यों को अंजाम देने के पीछे कौन है? जो स्मृति ईरानी कल तक राहुल गांधी जी और सोनिया गांधी जी को लेकर तरह-तरह के सवाल पूछ रही थीं, वो आज अपने पारिवारिक भ्रष्टाचार पर चुप क्यों है?’

इसे भी पढ़ें: दिल्ली पहुंचे भूपेश बघेल; सिंहदेव के साथ मतभेदों को कांग्रेस नेतृत्व के समक्ष उठाये जाने की संभावना

'गांधी परिवार के खिलाफ बोलती हूं, इसलिए बेटी को बनाया निशाना: स्मृति ईरानी 

स्मृति ईरानी ने कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए कहा, ‘‘मेरी बेटी की गलती यह है कि उसकी मां सोनिया और राहुल गांधी की 5,000 करोड़ रुपये की लूट पर संवाददाता सम्मेलन करती है। उसकी गलती यह है कि उसकी मां ने 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ा।’’ ईरानी ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कांग्रेस ने उनकी बेटी जोइश का चरित्र हनन किया और उसे निशाना बनाया। उन्होंने विपक्षी दल कांग्रेस को उनकी बेटी द्वारा कोई गड़बड़ी किए जाने का सबूत दिखाने की चुनौती दी। महिला और बाल विकास मंत्री ईरानी ने पूछा कि क्या कांग्रेस नेता जयराम रमेश और पवन खेड़ा द्वारा संवाददाता सम्मेलन में दिखाए गए कथित नोटिस में उनकी बेटी का नाम है। ईरानी ने कहा कि उनकी 18 वर्षीय बेटी कॉलेज की प्रथम वर्ष की छात्रा है और कोई बार नहीं चलाती। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने गांधी परिवार के इशारे पर उनकी बेटी को निशाना बनाने के लिए संवाददाता सम्मेलन किया। स्मृति ईरानी की पुत्री की ओर से भी इन आरोपों को खारिज किया गया है।

केंद्रीय मंत्री की पुत्री के वकील कीरत नागरा ने एक बयान में कहा कि उनकी मुवक्किल सिली सोल्स नामक रेस्त्रां की न तो मालकिन है, और न ही इसका संचालन करती हैं तथा किसी प्राधिकार की तरफ से उन्हें कोई ‘कारण बताओ नोटिस’ भी नहीं मिला है। नागरा ने आरोपों को निराधार करार देते हुए कहा, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि वे लोग सिर्फ इसलिए दुष्प्रचार कर रहे हैं, ताकि तथ्यों की जांच-परख किये बिना मुद्दाविहीन बात को सनसनी बनाकर पेश किया जा सके और वे मेरी मुवक्किल को सिर्फ इसलिए बदनाम करने पर आमादा हैं कि वह एक नेता की पुत्री हैं। कांग्रेस ने एक कागजात जारी करते हुए दावा किया कि आबकारी विभाग की ओर से स्मृति ईरानी की पुत्री को ‘कारण बताओ नोटिस’ जारी किया गया था और जिस अधिकारी ने नोटिस दिया था, उसका कथित तौर पर तबादला किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री तत्काल स्मृति ईरानी को हटाएं : जयराम रमेश 

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने एक सवाल के जवाब में यह भी कहा, ‘‘हम इस मुद्दे को संसद में उठाएंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री तत्काल स्मृति ईरानी को हटाएं। यह सिर्फ आरोप नहीं है। इसके सारे कागजात सामने हैं। यह सब हुआ है, क्योंकि एक प्रभावशाली मंत्री इसके पीछे हैं। 2004 में स्मृति ईरानी ने गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री का इस्तीफा मांगा था। आज प्रधानमंत्री उनका इस्तीफा लें।’’ राहुल गांधी पर ईरानी के हमले के बारे में पूछे गये एक सवाल के जवाब में खेड़ा ने कहा, ‘‘समाचार पत्र चलाने जैसे अच्छे काम की तुलना गोवा में गैर-कानूनी बार चलाने से कतई नहीं की जा सकती।’’ उन्होंने पूछा, ‘‘क्या यह सब उनकी (ईरानी की) जानकारी के बिना हो रहा था और क्या लाइसेंस बिना उनके प्रभाव के मिल गया होगा?’’ उन्होंने आरोप लगाया कि रेस्तरां तक मीडिया की पहुंच न होने देने के लिए गोवा में इसके चारों ओर निजी सुरक्षाकर्मी तैनात किये गये हैं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़