कांग्रेस ने भोपाल सांसद को बताया गुमशुदा, ढूँढकर लाने वाले को देगी दस हजार का ईनाम

कांग्रेस ने भोपाल सांसद को बताया गुमशुदा, ढूँढकर लाने वाले को देगी दस हजार का ईनाम

भोपालवासियों के लिए अत्यंत दु:ख और दुर्भाग्य की बात है कि जब दवाइयों, इंजेक्शन, वेन्टीलेटर्स, बेड्स और समुचित इलाज के अभाव में हजारों कोरोना पीड़ित दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं, अपनी जान गंवा रहे हैं, ऐसे संकट के समय में सांसद महोदया किस कंदरा में अंतर ध्यान हैं जांच का विषय है।

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस के महासचिव एवं वरिष्ठ प्रवक्ता रवि सक्सेना ने भोपाल सांसद प्रज्ञा ठाकुर को ढूढ़कर लाने वाले को 10 हजार रूपए देने का एलान किया है। कांग्रेस महसचिव ने कोरोना महामारी के गहन संकट के समय नदारद भोपाल सांसद प्रज्ञा ठाकुर के इस संक्रमण काल में लगातार गायब रहने पर आपत्ति जातते हुए यह एलान किया। उन्होंने कहा कि भोपाल की जनता से विपत्ति काल में नदारद रहने वाली सांसद को ढूंढकर लाने वाले को दस हजार रुपये का इनाम देने की घोषणा की है। रवि सक्सेना ने कहा है कि ये भोपालवासियों के लिए अत्यंत दु:ख और दुर्भाग्य की बात है कि जब दवाइयों, इंजेक्शन, वेन्टीलेटर्स, बेड्स और समुचित इलाज के अभाव में हजारों कोरोना पीड़ित दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं, अपनी जान गंवा रहे हैं, ऐसे संकट के समय में सांसद महोदया किस कंदरा में अंतर ध्यान हैं जांच का विषय है।

 

इसे भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ युद्ध स्तर पर संघर्ष जारी- शिवराज सिंह चौहान

कांग्रेस महासचिव रवि सक्सेना ने याद दिलाते हुए कहा कि पिछले वर्ष भी कोरोना महामारी के समय भी सांसद महोदया इसी तरह अंतरध्यान हो गयीं थी, तब भी मैंने ढूँढक़र लाने वाले को 5000 रुपये देने की घोषणा की थी। तब उनके तथाकथित सांसद प्रतिनिधि ने एक फोटो डालकर उनके बीमार होने की सूचना दी थी, किंतु इस बार तो लगातार मीडिया और जनता द्वारा सांसद जी के लापता होने का प्रश्न उठाने के बावजूद कोई भी उनके अंतर्ध्यान होने के विषयक कुछ भी बताने को तैयार नहीं है। उन्होंने कहा कि शायद उनके प्रतिनिधि ईनाम की प्रतीक्षा कर रहे हो इसलिए मैं घोषणा करता हूँ कि भोपाल की गुमशुदा सांसद प्रज्ञा ठाकुर को ढूँढकर लाने वाले को दस हज़ार रुपयों का ईनाम प्रदान किया जाएगा। ताकि कम से कम भोपाल की जनता जिसने उन्हें लाखों मतों से विजयी बनाया उनके दर्शन कर सकें।






नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।