मध्य प्रदेश में कम हो रहा है कोरोना संक्रमण, कोरोना संक्रमण में प्रदेश 13वें स्थान पर

मध्य प्रदेश में कम हो रहा है कोरोना संक्रमण, कोरोना संक्रमण में प्रदेश 13वें स्थान पर

प्रदेश में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या 94 हजार से अधिक हो गई थी, जो अब 92 हजार 77 रह गई है। पिछले 24 घंटे में 13 हजार 363 मरीज स्वस्थ होकर घर गए हैं। कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या में 696 की कमी आई है।

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सभी के निरंतर प्रयासों तथा जनता के सक्रिय सहयोग से अब प्रदेश में कोरोना संक्रमण कम हो रहा है। बड़ी संख्या में मरीज स्वस्थ होकर घर जा रहे हैं। जनता कर्फ्यू का प्रभाव प्रदेश में दिखने लगा है। मुख्यमंत्री आज निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति और व्यवस्थाओं के संबंध में कोर ग्रुप के सदस्यों की बैठक ले रहे थे। बैठक में संबंधित मंत्री और अधिकारी वीसी के माध्यम से शामिल हुए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या 94 हजार से अधिक हो गई थी, जो अब 92 हजार 77 रह गई है। पिछले 24 घंटे में 13 हजार 363 मरीज स्वस्थ होकर घर गए हैं। कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या में 696 की कमी आई है।

 

इसे भी पढ़ें: मध्‍य प्रदेश के शहडोल में सकारात्मक ऊर्जा से 81 वर्ष के बुजुर्ग ने दी कोरोना को मात

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश की कोरोना पॉजिटिविटी रेट में भी निरंतर गिरावट आ रही है। प्रदेश की साप्ताहिक औसत पॉजिटिविटी रेट 22.7% रह गई है। प्रदेश में 15 अप्रैल को 55 हजार 694 और 22 अप्रैल को 84 हजार 957 सक्रिय मरीज थे, वहीं 29 अप्रैल को 92 हजार 77 सक्रिय मरीज हैं।जिले वार समीक्षा में पाया गया कि भोपाल में सर्वाधिक 1811 नए कोरोना प्रकरण आए हैं। इंदौर में 1789, ग्वालियर में 920, जबलपुर में 741, रीवा में 348, उज्जैन में 308 तथा रतलाम में 296 नए कोरोना प्रकरण आए हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन की उपलब्धता निरंतर बढ़ रही है। हवाई मार्ग, रेल मार्ग एवं सड़क मार्ग तीनों से ऑक्सीजन मध्यप्रदेश आ रही है। प्रदेश को 28 अप्रैल को 568.76 मीट्रिक टन ऑक्सीजन प्राप्त हुई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि सभी जिले आवश्यकतानुसार ऑक्सीजन का उपयोग करें। ऑक्सीजन का अनावश्यक व्यय न किया जाए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।