देश आर्थिक बर्बादी के कगार पर, अब जाग जाएं प्रधानमंत्री : कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 30, 2020   11:33
देश आर्थिक बर्बादी के कगार पर, अब जाग जाएं प्रधानमंत्री : कांग्रेस

सुरजेवाला ने सवाल किया, मोदी जी, क्या महिला कल्याण केवल एक ‘जुमला’ है ? क्या महिला सशक्तिकरण ‘कोरा झूठ’ है ? क्या बेटी बचाओ व उज्जवला एक ‘झाँसा’ है ? क्या पोषण मिशन केवल ‘खोखले शब्द’ हैं ? बजट 2019-20 का पैसा क्यों नही खर्च किया ? देश की बेटियाँ जबाब मांगती हैं ।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने आम बजट पेश किए जाने से दो दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि देश आर्थिक बर्बादी के कगार पर है और अब मोदी को जाग जाना चाहिए। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला सुरजेवाला ने ट्वीट कर दावा किया,  मोदी जी, देश आर्थिक बर्बादी की कगार पर है। प्रशासनिक दिवालियापन हावी है। सोच व दृष्टि शून्य है। प्रगति पर ग्रहण लगा है। ‘जी हज़ूरी’ ही सत्ता के गलियारों की नीति है।’ उन्होंने कहा,  आप कब तक देश को दशा और दिशाहीन भटकाएँगे? जागिये, बजट-2020 आख़री मौक़ा है। 

इसे भी पढ़ें: महिलाओं के सम्मान की रक्षा के लिए भाजपा को वोट दें: स्मृति ईरानी

सुरजेवाला ने सवाल किया,  मोदी जी, क्या महिला कल्याण केवल एक ‘जुमला’ है ? क्या महिला सशक्तिकरण ‘कोरा झूठ’ है ? क्या बेटी बचाओ व उज्जवला एक ‘झाँसा’ है ? क्या पोषण मिशन केवल ‘खोखले शब्द’ हैं ? बजट 2019-20 का पैसा क्यों नही खर्च किया ? देश की बेटियाँ जबाब मांगती हैं । 

इसे भी पढ़ें: प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जदयू से निष्कासित, भाजपा ने कहा -अच्छा हुआ

उन्होंने कहा,  मोदी जी, आखिर, देश के दलितों की अनदेखी क्यों ? आखिर, देश के दलितों से अन्याय क्यों ? आखिर, देश के दलित युवाओं से भेदभाव क्यों ? बजट 2019-20 का पैसा क्यों नही खर्च किया? देश का दलित जबाब माँगता है । उन्होंने यह भी पूछा,  मोदी जी, सिख-जैन-पारसी-ईसाई-बौद्ध-मुसलमान सब अल्पसंख्यक हैं। क्या अल्पसंख्यकों का बजट बस आँकड़ा है ? क्या अल्पसंख्यक छात्रों से भेदभाव ही नीति है ? क्या आपकी ये नीति ही राजनीति है ? बजट 2019-20 का पैसा क्यों खर्च नही किया? देश के अल्पसंख्यक वर्ग जबाब माँगते हैं। 

 

BJP के खिलाड़ियों की टीम का हुआ विस्तार, Saina Nehwal पार्टी में शामिल





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।