दादर और विक्रमशिला एक्सप्रेस ट्रेन के रूट में एक बार फिर किया गया बदलाव,जानें किन स्टेशनों पर रुकेंगी ये ट्रेनें

Vikramshila Express
इसी वजह से सूरत एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय से 13 घंटे की देरी से भागलपुर पहुंची। घंटों की देरी से चलने के कारण यह ट्रेन 8 घंटे लेट हो कर दोपहर 3 बजे यहां से रवाना हुई। जिसकी वजह से यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

बीते कल यानी 28 जनवरी शुक्रवार से विक्रमशिला एक्सप्रेस और दादर एक्सप्रेस ट्रेन सुल्तानगंज, बरियारपुर, रतनपुर और जमालपुर होकर चलने लगी। वही भागलपुर- मुजफ्फरपुर जनसेवा एक्सप्रेस का भी शुक्रवार से परिचालन शुरू हो गया। यह ट्रेन भी जमालपुर होकर ही चलने लगी। जबकि मालदा टाउन- किऊल इंटरसिटी एक्सप्रेस और साहिबगंज किऊल पैसेंजर भागलपुर तक ही चलेगी। शनिवार से यह ट्रेनें पटरी पर लौटेंगी और पहले की तरह ही निर्धारित रूट पर चलने लगेंगी।

डबल इंजन को चालू करने के लिए जमालपुर-रतनपुर स्टेशनों के बीच इंटरलॉकिंग कार्य के कारण चार-पांच दिनों से रद्द की गई ट्रेनों का परिचालन शुरू होने के साथ ही मालदा टाउन किऊल इंटरसिटी एक्सप्रेस और साहिबगंज किऊल पैसेंजर के किऊल स्टेशन पर चलने की उम्मीद है। गया सहित अन्य जगहों पर प्रदर्शनकारी छात्रों द्वारा रेलवे को निशाना बनाने के कारण अस्त-व्यस्त परिचालन का असर भागलपुर के ट्रेन पर भी पड़ा। इसी वजह से सूरत एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय से 13 घंटे की देरी से भागलपुर पहुंची। घंटों की देरी से चलने के कारण यह ट्रेन 8 घंटे लेट हो कर दोपहर 3 बजे यहां से रवाना हुई। जिसकी वजह से यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से भागलपुर जंक्शन को प्रदूषण मुक्त का सीटीओ ( कंसेंट टू ऑपरेट) का सर्टिफिकेट मिला है। प्रदूषण के दृष्टिकोण से पर इस स्टेशन पर कई काम किए गए हैं। यहां पर सौर ऊर्जा के लिए सोलर पैनल भी लगाए गए हैं। हालांकि भागलपुर जंक्शन पर यह काम डेढ़ साल पहले ही हुआ है। रेलवे स्टेशन पर नहीं बल्कि साहिबगंज-भागलपुर-जमालपुर रेलखंड के कई स्टेशनों पर भी सोलर पैनल लगाए गए हैं। इसके जरिए ऊर्जा संरक्षण को बढ़ावा दिया जा रहा है।

अधिकारियों के अनुसार मालदा रेल मंडल की योजना ऊर्जा संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए सभी छोटे स्टेशनों पर सोलर पैनल लगाने की है। प्रतिदिन 50,000 से ज्यादा यात्रियों के मूवमेंट वाले ए- वन इस स्टेशन में पिछले दिनों राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीम ने प्रदूषण के हालात वह मानकों के अनुपालन की ऑन स्पॉट जांच की थी। मंडल कार्यालय के मुख्यालय मालदा स्टेशन को भी यह सर्टिफिकेट मिला है। भागलपुर स्टेशन के अंदर व बाहर में वायु ध्वनि व जल प्रदूषण नियंत्रित है,सीटीओ से ऐसा सर्टिफिकेट इस स्टेशन को भी मिला है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़