द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति बनने पर आदिवासी छात्रों ने जमकर मनाया जश्न, भारत माता की जय के लगाए नारे

Dehradun tribal kids
Prabhasakshi
आईटीआईटीआई दून संस्कृति स्कूल में आदिवासी बच्चे पढ़ते हैं और वो द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति बनने पर काफी ज्यादा उत्साहित दिखाई दिए। इस दौरान आदिवासी बच्चों ने भारत माता की जय के जयकारे भी लगाए। बच्चों की तस्वीरें भी सामने आईं। जिसमें बच्चे तिरंगे लिए हुए खड़े दिखाई दे रहे हैं और उनके पीछे एक पोस्टर लगा है।

देहरादून। प्राचीन परंपराओं एवं आधुनिक राष्ट्र की आकांक्षाओं को पूरा करने के संकल्प के साथ द्रौपदी मुर्मू ने देश की 15वीं राष्ट्रपति के रूप में सोमवार को शपथ ली। वह जनजातीय समुदाय से आने वाली देश की पहली राष्ट्राध्यक्ष और इस शीर्ष संवैधानिक पद को ग्रहण करने वाली दूसरी महिला हैं। आदिवासी आईटीआईटीआई दून संस्कृति स्कूल के बच्चों के द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति बनने पर उत्साह और उल्लास के साथ तिरंगा लहराया और जमकर जश्न मनाया।

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपति के शपथ समारोह में खड़गे को नहीं मिला समुचित स्थान, विपक्ष ने राज्यसभा के सभापति को लिखा पत्र 

आपको बता दें कि आईटीआईटीआई दून संस्कृति स्कूल में आदिवासी बच्चे पढ़ते हैं और वो द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति बनने पर काफी ज्यादा उत्साहित दिखाई दिए। इस दौरान आदिवासी बच्चों ने भारत माता की जय के जयकारे भी लगाए। बच्चों की तस्वीरें भी सामने आईं। जिसमें बच्चे तिरंगे लिए हुए खड़े दिखाई दे रहे हैं और उनके पीछे एक पोस्टर लगा है। इस पोस्टर में द्रौपदी मुर्मू और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी दिखाई दे रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: जनपथ रोड होगा पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का नया पता, सोनिया गांधी के बनेंगे पड़ोसी 

इस स्कूल का उद्घाटन साल 2004 में द्रौपदी मुर्मू और अटल बिहारी वाजपेयी ने किया था। उल्लेखनीय है कि अटल बिहारी वाजपेयी आदिवासी कल्याण मंत्रालय बनाने वाले पहले प्रधानमंत्री थे। इस स्कूल में आदिवासी बच्चों की पढ़ाई होती है। साथ ही इस स्कूल में आतंकवाद और उग्रवाद प्रभावित पूर्वोत्तर के बच्चों को मुफ्त शिक्षा प्रदान की जाती है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़