राजधानी दिल्ली की वायु गुणवत्ता अभी भी 'बेहद खराब' श्रेणी में, शहर का AQI 361 दर्ज किया गया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 24, 2020   11:33
राजधानी दिल्ली की वायु गुणवत्ता अभी भी 'बेहद खराब' श्रेणी में, शहर का AQI 361 दर्ज किया गया

दिल्ली का एक्यूआई सोमवार को 302, रविवार को 274, शनिवार को 251, शुक्रवार को 296, बृहस्पतिवार को 283 और बुधवार को 211 दर्ज किया गया था।

नयी दिल्ली। दिल्ली की वायु गुणवत्ता मंगलवार को “बेहद खराब” श्रेणी में दर्ज की गई। शहर के 38 में से छह केंद्रों पर वायु गुणवत्ता “गंभीर” श्रेणी में दर्ज की गई। सरकारी एजेंसियों ने यह जानकारी दी। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मोबाइल ऐप समीर के अनुसार सुबह शहर का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 361 दर्ज किया गया। आनंद विहार (413), अशोक विहार (407), चांदनी चौक (410), जहांगीरपुरी (424), पटपड़गंज (411) और विवेक विहार (426) केंद्रों पर एक्यूआई “गंभीर” श्रेणी में दर्ज किया गया। दिल्ली का एक्यूआई सोमवार को 302, रविवार को 274, शनिवार को 251, शुक्रवार को 296, बृहस्पतिवार को 283 और बुधवार को 211 दर्ज किया गया था। 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री केजरीवाल ने ICU बिस्तरों के लिए तत्काल 1,200 बाईपैप मशीनें खरीदने का दिया निर्देश 

उल्लेखनीय है कि शून्य से 50 के बीच वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘अच्छा’, 51 से 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 से 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 से 300 के बीच ‘खराब’, 301 से 400 के बीच ‘अत्यंत खराब’ और 401 से 500 के बीच वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की वायु गुणवत्ता निगरानी प्रणाली सफर के अनुसार रविवार को पराली जलाने की घटनाओं में कमी आई और 149 घटनाएं दर्ज की गई। सफर के अनुसार हवा की गति मंद हो सकती है और यदि पराली जलाने की घटनाएं बढ़ती हैं तो एक्यूआई “गंभीर” श्रेणी में आ जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।