धामी धाकड़ बल्लेबाज, इन्हें आखिरी ओवर में उतारा गया है: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 1, 2021   19:49
धामी धाकड़ बल्लेबाज, इन्हें आखिरी ओवर में उतारा गया है: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री ने धामी के नारे ‘सरकार का दृढ़ इरादा, बातें कम काम ज्यादा’ को सही ठहराते हुए कहा कि बातें कम होनी चाहिए लेकिन काम ज्यादा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि धामी को वह उनकी छात्र राजनीति के दिनों से जानते हैं जहां उनके पास ऊर्जा और क्षमता के साथ ही कुछ कर गुजरने की जज्बा भी है।

देहरादून। केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी एक धाकड़ बल्लेबाज हैं जिन्हें 20—20 मैच के आखिरी ओवर में उतारा गया है। उन्होंने कहा, “क्रिकेट की में अगर कहूं तो 20—20 के मैच में धामी जी को आखिरी ओवर में उतारा गया है। धामी जी काफी धाकड़ बल्लेबाज हैं।” पेशावर कांड के नायक वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की पुण्यतिथि पर पौड़ी जिले में स्थित उनके गांव पीठसैंण में उनकी प्रतिमा का अनावरण करने के मौके पर दिए अपने संबोधन में सिंह ने भरोसा जताया कि धामी उत्तराखंड की जनता की उम्मीदों पर खरे उतरेंगे। उन्होंने कहा, “उन पर उत्तराखंड के लोगों की बहुत सारी उम्मीदें टिकी हुई हैं। मुझे पूरी उम्मीद है कि वे इन उम्मीदों पर खरे उतरेंगे।”

रक्षा मंत्री ने धामी के नारे ‘सरकार का दृढ़ इरादा, बातें कम काम ज्यादा’ को सही ठहराते हुए कहा कि बातें कम होनी चाहिए लेकिन काम ज्यादा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि धामी को वह उनकी छात्र राजनीति के दिनों से जानते हैं जहां उनके पास ऊर्जा और क्षमता के साथ ही कुछ कर गुजरने की जज्बा भी है। सिंह ने आजादी के अमृत महोत्सव के दौरान गढ़वाली की प्रतिमा के अनावरण को सुखद संयोग बताया। तत्कालीन रॉयल गढ़वाल राइफल्स में हवलदार मेजर गढ़वाली को 1930 में हुए पेशावर कांड का नायक माना जाता है जब उन्होंने ब्रिटिश हुक्मरानों की आज्ञा का उल्लंघन करते हुए भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ रहे निहत्थे पठानों पर गोली चलाने से मना कर दिया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।