वैक्सीन को लेकर केंद्र से तकरार, सुप्रीम कोर्ट जाएगी राजस्थान सरकार

वैक्सीन को लेकर केंद्र से तकरार, सुप्रीम कोर्ट जाएगी राजस्थान सरकार

वैक्सीनेशन को लेकर राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने केंद्र पर निशाना साधा है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ग्लोबल टेंडर केंद्र को ही करनी चाहिए। इसलिए हमारी सरकार सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने जा रही है।

कोरोना संक्रमण काल में प्रदेश में वैक्सीनेशन को लेकर सियासत चरम पर आई है। इस बीच आज राजस्थान में 18-44 वर्ष आयु वर्ग के लोगों के लिए वैक्सीन खत्म हो चुकी है। राज्य सरकार के पास 45 वर्ष से अधिक आयु वाले लोगों को लगाने के लिए ढाई लाख डोज बची है। इसके चलते केवल 45 से अधित उम्र वालों को ही वैक्सीन लगाई जा रही है। वहीं वैक्सीनेशन को लेकर राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने केंद्र पर निशाना साधा है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ग्लोबल टेंडर केंद्र को ही करनी चाहिए। इसलिए हमारी सरकार सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: गहलोत ने कहा, कोरोना मरीजों के ईलाज के लिए निर्धारित दरों से अधिक वसूली की शिकायतों पर तत्परता से कार्रवाई हो

राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि आज हमारे पास वैक्सीन नहीं है इसलिए वैक्सीनेशन रोक दिया है। कोवैक्सीन और कोविशील्ड 150 रुपये में भारत सरकार को दी जा रही है वो राज्यों को 300-400 में क्यों मिल रही है। देश में एक कीमत रहनी चाहिए। ग्लोबल टेंडर से खरीदें तो कीमत 4 गुनी और हो जाएगी। रघु शर्मा ने कहा कि हमारी सरकार ने फैसला किया है कि सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएं और वो भारत सरकार को दिशानिर्देश जारी करे कि आप ग्लोबल टेंडर करें खर्चा चाहे राज्य सरकारें देंगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।