3 महीनें के अंदर दिल्ली में 500 मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट लगाएगा DRDO

3 महीनें के अंदर दिल्ली में 500 मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट लगाएगा DRDO

कोरोना वायरस की दूसरी लहर काफी ज्यादा खतरनाक साबित हो रही है। कोरोना के कारण हजारों लोग रोज अपनी जान गवां रहे हैं। देश की राजधानी दिल्ली में लोग सांसों के लिए तरस रहे हैं।

कोरोना वायरस की दूसरी लहर काफी ज्यादा खतरनाक साबित हो रही है। कोरोना के कारण हजारों लोग रोज अपनी जान गवां रहे हैं। देश की राजधानी दिल्ली में लोग सांसों के लिए तरस रहे हैं। ऑक्सीजन की कमी और अस्पतालों में बेड की कमी के कारण लोग सड़को पर दम तोड़ रहे हैं। शमशान घाट पर दह संस्कार करने के लिए 20-25 घंटे इंतजार करना पड़ रहा है। स्थिति बत्तर है। सरकारों के हाथ-पैर फूल चुके हैं। ऐसे में युद्ध स्तर पर सेना भी कोरोना से लड़ने के लिए जमीन पर उतर आयी है। दिल्ली जैसे शहरों में ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए डीआरडीओ ने दिल्ली में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का ऐलान किया है। DRDO पीएम केयर फंड के तहत  500 मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट 3 महीनों में लगवाएगा। 

इसे भी पढ़ें: राहुल गांधी ने असम के भूकंप प्रभावित इलाकों में सबकी सुरक्षा की कामना की 

इससे पहले भी डीआरओ ने अपना कोविड 19 अस्पताल खोल दिया है। इस अस्पताल में 250 ऑक्सीजन बेड है।  इसके अलावा 1000 नॉर्मल बेड है। ये सभी मरीजों के लिए हैं। अस्पताल खुलने के बाद दिल्ली के द्वारका इलाके के लोगों के लिए थोड़ी सी राहत हबो गयी थी लेकिन मरीजों की संख्या ज्यादा होने के कारण यह भी पूरी तरह से फुल हो चुका है। 

इसे भी पढ़ें: असम में तीन झटके महसूस किए गए, बंगाल-मेघालय तक पहुंचा भूकंप 

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के एक दिन में रिकॉर्ड 3,60,960 नये मामले सामने आए हैं जिसके बाद संक्रमण के कुल मामले 1,79,9,267 हो गए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के बुधवार सुबह तक के आंकड़ों के मुताबिक 3,293 और लोगों की मौत होने के बाद मृतक संख्या दो लाख को पार कर गई है। आंकड़ों के मुताबिक 1,48,17,371 लोग संक्रमण से उबर चुके हैं जबकि बीमारी से मृत्यु दर 1.12 प्रतिशत है। मंत्रालय ने बताया कि 29,78,709 लोग अब भी संक्रमण की चपेट में हैं जो संक्रमण के कुल मामलों का 16.55 प्रतिशत है जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर और घटकर 82.33 प्रतिशत हो गई है। आंकड़ों के मुताबिक मृतक संख्या 2,01,187 है। देश में कोविड-19 के मरीजों की संख्या पिछले साल सात अगस्त को 20 लाख को पार कर गई थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।