जून में भारत में बिजली की मांग और आपूर्ति में अंतर कम होकर 0.6 प्रतिशत हुआ

Electricity Demands
Creative Common Licences.
विद्युत मंत्री आर के सिंह ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि अप्रैल 2022 में भारत में बिजली आपूर्ति एक साल पहले इसी महीने की तुलना में 12.8 प्रतिशत बढ़ गयी है।

नयी दिल्ली|  सरकार ने बृहस्पतिवार को लोकसभा को सूचित किया कि बिजली की मांग में भारी बढ़ोतरी के बावजूद पिछले महीने बिजली की मांग और आपूर्ति में अंतर कम होकर अप्रैल के दो प्रतिशत से जून में 0.6 प्रतिशत रह गया। विद्युत मंत्री आर के सिंह ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि अप्रैल 2022 में भारत में बिजली आपूर्ति एक साल पहले इसी महीने की तुलना में 12.8 प्रतिशत बढ़ गयी है।

उन्होंने कहा कि दूसरी तरफ बिजली की मांग पूरे देश में अप्रैल महीने में 14.7 प्रतिशत बढ़ गयी जिसके परिणाम स्वरूप बिजली की मांग और आपूर्ति में कमी दो प्रतिशत रही।

सिंह ने कहा, ‘‘बिजली की मांग और आपूर्ति के बीच अंतराल काफी कम हुआ है। यह इस साल मई और जून के महीनों में क्रमश: 0.4 प्रतिशत और 0.6 प्रतिशत हो गया। जबकि मई 2021 और जून 2021 की तुलना में इस साल इन महीनों में बिजली की मांग में काफी इजाफा हुआ है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़