हर कन्या एवं महिला को मिले विभागीय योजनाओं का लाभ बोले एसडीएम

हर कन्या एवं महिला को मिले विभागीय योजनाओं का लाभ बोले एसडीएम

नई शगुण योजना के तहत बीपीएल परिवारों की 21 बेटियों के विवाह हेतु 6,51,000 रूपये की राशि तथा मदर टेरेसा असहाय मातृ सम्बल योजना के अंतर्गत 357 बेसहारा माताओं तथा 545 बच्चों को लाभांवित करके 15,97,804 रूपये की राशि व्यय की गई। इसके अतिरिक्त विधवा पुनर्विवाह के अन्तर्गत 04 लाभार्थियों को 2 लाख रूपये की राशि इस वित्तीय वर्ष में अब तक प्रदान की गई।

देहरा   बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, पोषण अभियान एवं बेटी है अनमोल योजनाओं के अन्तर्गत सरकार एवं प्रशासन द्वारा किए गए गंभीर प्रयासों से आज साकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहे हैं। पोषण अभियान के अन्तर्गत गठित देहरा ब्लॉक कन्वरजैंस कमेटी, सशक्त महिला योजना तथा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के अन्तर्गत खण्ड स्तरीय बैठकों की अध्यक्षता करते हुए उपमण्डल अधिकारी (नागरिक) देहरा धनबीर ठाकुर ने यह शब्द कहे। उन्होंने कहा कि इस अभियान के महत्व को देखते हुए जन-जन तक इन योजनाओं का प्रचार-प्रसार होना चाहिए, जिससे कोई भी कन्या या महिला विभागीय योजनाओं के लाभ से वंचित न रहे।

 

इसे भी पढ़ें: फतेहपुर को फतेह कराना है जयराम सरकार को मजबूत बनाना है - राकेश पठानिया

 

उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि बाल विकास परियोजना देहरा खंड में सरकार द्वारा प्रधानमंत्री मातृ वन्दना योजना के अन्तर्गत 499 लाभार्थियों को 24,87,000 रूपये की राशि उपलब्ध करवाई गई है। तथा मुख्यमंत्राी कन्यादान योजना के अन्तर्गत वर्ष 2021-22 में 81 लाभार्थियों को 40,98,000 रूपये की राशि एवं बेटी है अनमोल योजना के अन्तर्गत 50 बेटियों को एफ0डी0आर0 के रूप में 6,00,000 रूपये की राशि तथा 367 बेटियों को स्कॉलरशिप के रूप में 5,53,800 रूपये की राशि उपलब्ध करवाई गई। उन्होंने बताया कि नई शगुण योजना के तहत बीपीएल परिवारों की 21 बेटियों के विवाह हेतु 6,51,000 रूपये की राशि तथा मदर टेरेसा असहाय मातृ सम्बल योजना के अंतर्गत 357 बेसहारा माताओं तथा 545 बच्चों को लाभांवित करके 15,97,804 रूपये की राशि व्यय की गई। इसके अतिरिक्त विधवा पुनर्विवाह के अन्तर्गत 04 लाभार्थियों को 2 लाख रूपये की राशि इस वित्तीय वर्ष में अब तक प्रदान की गई।

एसडीएम ने बैठक में पोषण अभियान के अन्तर्गत बच्चे के पहले 1000 दिन जिसमें प्रसव के पूर्व एवं पश्चात बच्चे की आयु का 2 वर्ष का समय सम्मिलित हैं पर ध्यान केन्द्रित करने पर जोर दिया एवं इस बारे विस्तृत चर्चा की गई ताकि पोषण अभियान के लक्ष्यों जैसे बच्चों में बौनेपन की प्रतिशतता में कमी लाना, 15-49 वर्ष की गर्भवती, धात्री महिलाओं तथा किशोरियों व बच्चों में खून की कमी को दूर करना तथा जन्म समय कम वजन के बच्चों की संख्या में कमी लाना, जैसे लक्ष्यों को पूरा किया जा सके। 

इसे भी पढ़ें: ज्वालामुखी मंदिर में शयन आरती के दौरान श्रद्धालुओं से हुई मारपीट से सरकारी इंतजामों की पोल खुली

इस अवसर पर बाल विकास परियोजना अधिकारी देहरा रवि कुमार ने विभाग द्वारा खंड में किए जा रहे सभी कार्यों का ब्योरा रखा। जिनके कुश्ल संचालन हेतु एसडीएम ने उन्हें प्रोतसाहित किया। उन्होंने कहा कि आम लोगों से जुड़ा होने के कारण महिला एवं बाल विकास विभाग एवं इसके कर्मचारी की भूमिका बहुत अहम है और इसे यह लोग बखूबी निभाते भी हैं। उन्होंने बैठक में सभी विभागों जैसे जल शक्ति विभाग, शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, ग्रामीण विकास विभाग, आयूष विभाग तथा खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग, पुलिस विभाग तथा अन्य विभागों को पोषण अभियान के अन्तर्गत निर्धारित लक्ष्यों को पूरा करने हेतु एक जुट हो कर कार्य करने के निर्र्देश दिए गए ताकि योजना अनुसार चरणबद्ध तरीके से उक्त लक्ष्यों को पूरा करवाया जा सके। 

इस अवसर पर एसडीएएमओ देहरा डॉ. बृजनन्दन शर्मा, बाल विकास परियोजना अधिकारी देहरा रवि कुमार सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।