महाराष्ट्र में जारी रहेगा किसानों का मार्च, किसान और सरकार के बीच नहीं बनी बात

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 21, 2019   14:32
महाराष्ट्र में जारी रहेगा किसानों का मार्च, किसान और सरकार के बीच नहीं बनी बात

किसान सभा ने फैसला किया है कि बृहस्पतिवार सुबह से शुरू हो रहा मार्च तब तक जारी रहेगा जब तक सरकार उनकी सभी मांगें नहीं मान लेती।

मुंबई। महाराष्ट्र में नासिक से मुबंई के बीच किसानों का मार्च जारी रहेगा। मार्च के आयोजकों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। इससे पहले बुधवार देर रात किसान नेताओं और महाराष्ट्र सरकार के बीच हुई बातचीत बेनतीजा रही। किसान नासिक से मुंबई के बीच 180 किलोमीटर तक मार्च कर रहे हैं। बीते 12 महीने में किसान दूसरी बार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। उनका कहना है कि राज्य और केंद्र सरकार ने उनके साथ "विश्वासघात" किया है। किसानों का यह मार्च नौ दिन में पूरा होने की उम्मीद है। इसका आयोजन माकपा समर्थित अखिल भारतीय किसान सभा (एआईकेएस) कर रही है। 

इसे भी पढ़े: पुलवामा हमले को लेकर शिवसेना ने सरकार पर उठाए सवाल, कहा- चुनाव का न करें इंतजार

किसान सभा ने दावा किया कि वह बुधवार को मार्च नहीं कर पाए क्योंकि पुलिस ने कई किसानों को नासिक पहुंचने से पहले ही रोक दिया था। महाराष्ट्र के मंत्री गिरीश महाजन ने बुधवार रात अखिल भारतीय किसान सभा के कुछ प्रतिनिधियों से मुलाकात की। एआईकेएस के अध्यक्ष अशोक धावले ने कहा, "हमने तीन घंटे तक मंत्री के साथ बातचीत की। उन्होंने हमारी 80 प्रतिशत मांगों को लेकर सकारात्मक रुख दिखाया है। मंत्री ने कहा है कि वह मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस से बात करेंगे।"

धावले ने कहा कि महाजन ने अखिल भारतीय किसान सभा के प्रतिनिधियों से कहा कि उन्हें लिखित आश्वासन दिया जाएगा। उन्होंने कहा, "किसान सभा ने फैसला किया है कि बृहस्पतिवार सुबह से शुरू हो रहा मार्च तब तक जारी रहेगा जब तक सरकार उनकी सभी मांगें नहीं मान लेती।"





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।