पुलवामा हमले को लेकर शिवसेना ने सरकार पर उठाए सवाल, कहा- चुनाव का न करें इंतजार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 21, 2019   12:22
पुलवामा हमले को लेकर शिवसेना ने सरकार पर उठाए सवाल, कहा- चुनाव का न करें इंतजार

शिवसेना ने कहा कि सोशल मीडिया पर भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध चल रहा है। पार्टी के मुताबिक यह लोकसभा चुनाव शुरू होने की निशानी है।

मुंबई। शिवसेना ने पुलवामा आतंकी हमले के लिये पाकिस्तान को जवाब देने के भाजपा शासित केंद्र सरकार के रुख पर सवाल उठाए हैं। पार्टी ने सरकार से कहा कि वह पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिये लोकसभा चुनाव तक इंतजार न करे। शिवसेना के मुखपत्र में प्रकाशित एक लेख में यह भी कहा गया कि मोदी सरकार हमले की निंदा करने के लिये अमेरिका और यूरोपीय देशों पर निर्भर न रहे। सेना ने कहा कि हमें समर्थन के लिये अमेरिका और यूरोपीय देशों की ओर देखने के बजाय खुद ही लड़ाई लड़नी होगी।

इसे भी पढ़ें: पुलवामा हमले के बाद मोदी ने नहीं निभाया राजधर्म, कर रहे थे शूटिंग

शिवसेना ने कहा कि सोशल मीडिया पर भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध चल रहा है। पार्टी के मुताबिक यह लोकसभा चुनाव शुरू होने की निशानी है। सोशल मीडिया पर चल रहा यह युद्ध बंद होना चाहिए। पार्टी ने कहा कि सैनिकों की शहादत और आतंकवादी हमले चुनाव जीतने का हथकंडा बन चुके हैं। इस तरह देश दुश्मनों का सामना कैसे करेगा। पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिये सिर्फ बयानबाजी हो रही है। पहले आप जवाब दें और फिर बोलें। हम पठानकोट, उरी और अब पुलवामा हमले के बाद से ही चेतावनी दे रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: गठबंधन के बावजूद भी भाजपा-शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर ठनी

शिवसेना ने कहा कि हमले को लेकर डोनाल्ड ट्रंप, फ्रांस और ईरान ने जो कहा है उसी को लेकर हम अपनी पीठ थपथपा रहे हैं। पार्टी ने कहा कि श्रीलंका ने लिट्टे समस्या खत्म की और दुनिया ने उसकी तारीफ की। इसी तरह अमेरिका ने पाकिस्तान में घुसकर ओसामा बिन लादेन को मार गिराया और दुनिया ने उसके साहस की सराहना की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।