MP में बढ़ा ओमिक्रॉन का डर, लोग लगवा रहे है तीसरा डोज

Omicron in mp
सुयश भट्ट । Dec 11, 2021 11:33AM
आगर मालवा जिले में लगभग 4 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन लगनी थी। लेकिन अब तक इससे ज्यादा वैक्सीन लग चुका है। जानकारी मिली है कि लगभग 14800 लोगों के ज्यादा टीके लग चुके है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के आगर मालवा जिले में स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट के डर के चलते लगभग 15000 के लगभग लोगों को कोरोना वैक्सीन का तीसरा डोज लगवा लिया है। जिला प्रशासन इसके लिए लोगों को ही जिम्मेदार ठहरा रहा है।

दरअसल आगर मालवा जिले में लगभग 4 लाख  लोगों को कोरोना वैक्सीन लगनी थी। लेकिन अब तक इससे ज्यादा वैक्सीन लग चुका है। जानकारी मिली है कि लगभग 14800 लोगों के ज्यादा टीके लग चुके है।

इसे भी पढ़ें:24 घंटे में कोविड-19 के 7,992 नए मामले सामने आए, 393 मरीजों की मौत 

इसे लगवाने के पीछे प्रशासन का तर्क है कि लोग खुद को बूस्टर करने के लिए मोबाइल नंबर बदल कर फिर से डोज लगवा रहे है। हांलाकि कोरोना वैक्सीन रजिस्ट्रेशन के लिए आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस या पैन कार्ड जैसे कुछ दस्तावेजों में से एक का होना जरूरी है। उसके बाद ही मोबाइल नंबर पर रजिस्ट्रेशन आता है।

वहीं स्वास्थ्य विभाग को इसकी जैसे ही जानकारी लगी कि लोग पहले डोज के नाम पर बूस्टर डोज लगवा रहे है तब अधिकारियों के हाथ पैर फूल गए और उन्होंने तत्काल प्रभाव से निर्देश दिए कि अब SDM की अनुमति के बिना कोरोना वैक्सीन नहीं लगाया जाएगा।

इसे भी पढ़ें:ओमीक्रोन का खतरा ! नाइजीरिया से इंदौर लौटे भाई-बहन कोरोना वायरस से संक्रमित मिले 

वहीं ऐसा हुए बिना वैक्सीन लगने पर यदि किसी व्यक्ति का वैक्सीनेशन प्रथम डोज के लिए होता है तो उसकी रिकवरी ANM व वैरीफायर के मानदेय से करने की बात भी CMHO एस एस मालवीय ने अपने आदेश में लिखी। लेकिन इस आदेश के जारी होते ही विरोध हो गया और उसके बाद इसे निरस्त कर दिया गया।

हालांकि अब प्रशासन सारे दस्तावेज जांचने के बाद ही प्रथम डोज लगवा रहा है और ऐसी व्यवस्था की जा रही है। लेकिन सवाल यह है कि आखिरकार इतनी बड़ी संख्या में कोरोना के ज्यादा डोज लग कैसे गए।

अन्य न्यूज़