राजस्थान सरकार को विवादित विवाह पंजीकरण विधेयक वापस लेने के लिए मजबूर किया : बीजेवाईएम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 13, 2021   05:50
राजस्थान सरकार को विवादित विवाह पंजीकरण विधेयक वापस लेने के लिए मजबूर किया : बीजेवाईएम
प्रतिरूप फोटो

विपक्षी भाजपा और अधिकार कार्यकर्ताओं ने विधेयक के एक प्रावधान पर आपत्ति जताई थी। भारतीय जनता युवा मोर्चा (बीजेवाईएम) के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या ने कहा कि यह विधेयक कानून का उल्लंघन है और इससे नाबालिग लड़कियों के शोषण को बढ़ावा मिलता।

नयी दिल्ली|  भारतीय जनता युवा मोर्चा (बीजेवाईएम) ने मंगलवार को दावा किया कि उसने राजस्थान सरकार को हाल में पारित विवाह पंजीकरण विधेयक को वापस लेने के लिए विभिन्न प्रदर्शनों के माध्यम से मजबूर किया।

भाजपा की युवा शाखा ने एक बयान जारी कर कहा कि यह विधेयक ‘‘पश्चगामी’’ था और इससे ‘‘लोगों के लिये बाल विवाह कराना आसान हो जाता।’’

इसे भी पढ़ें: अनिवार्य विवाह पंजीकरण (संशोधन) विधयेक’ पर पुन:विचार करेगी सरकार : गहलोत

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को कहा कि राज्य सरकार ने हाल में पारित विवाह पंजीकरण विधेयक पर फिर से गौर करने के लिए इसे वापस लेने का निर्णय किया है और चिंता जताई कि इसके प्रावधानों से बाल विवाह को बढ़ावा मिलेगा।

विपक्षी भाजपा और अधिकार कार्यकर्ताओं ने विधेयक के एक प्रावधान पर आपत्ति जताई थी। बीजेवाईएम के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या ने कहा कि यह विधेयक कानून का उल्लंघन है और इससे नाबालिग लड़कियों के शोषण को बढ़ावा मिलता।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान के मुख्यमंत्री के बड़े भाई धनशोधन मामले में ईडी के समक्ष पेश





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।