असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई का निधन, 84 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

  •  अनुराग गुप्ता
  •  नवंबर 23, 2020   18:20
  • Like
असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई का निधन, 84 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

चिकित्सकों से मिली जानकारी के मुताबिक, सोमवार की सुबह तरूण गोगोई की तबीयत बिगड़ गयी थी। उनकी देख भाल कर रहे चिकित्सकों ने बताया था कि उनकी हालत बेहद नाजुक है लेकिन शाम होते होते तुरूण गोगोई निधन हो गया।

गुवाहाटी। असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरूण गोगोई का सोमवार को निधन हो गया है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्व शर्मा ने इसकी जानकारी दी। चिकित्सकों से मिली जानकारी के मुताबिक, सोमवार की सुबह तरूण गोगोई की तबीयत बिगड़ गयी थी। उनकी देखभाल कर रहे चिकित्सकों ने बताया था कि उनकी हालत बेहद नाजुक है लेकिन शाम होते होते तुरूण गोगोई निधन हो गया।

गौहाटी मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक अभिजीत शर्मा ने बताया कि वरिष्ठ कांग्रेस नेता की देखभाल नौ चिकित्सकों की एक टीम कर रही थी। तरूण गोगोई के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई नेताओं ने शोक जताया है। असम के तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके गोगोई को दो नवंबर को जीएमसीएच में भर्ती कराया गया था। उनकी हालत बिगड़ने पर उन्हें शनिवार की रात वेंटिलेटर पर रखा गया। गोगोई 25 अगस्त को कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गये थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


दिव्य, भव्य और सुरक्षित होगा हरिद्वार कुंभ, मुख्यमंत्री रावत बोले- हर अपेक्षा पर खरा उतरेगी हमारी सरकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 24, 2021   17:27
  • Like
दिव्य, भव्य और सुरक्षित होगा हरिद्वार कुंभ, मुख्यमंत्री रावत बोले- हर अपेक्षा पर खरा उतरेगी हमारी सरकार

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बताया कि कुंभ मेला क्षेत्र में कुल 86 निर्माण कार्य स्वीकृत थे जिनमें से दो बाद में निरस्त किये गए थे। उन्होंने बताया कि शेष 84 में से अधिकतर काम पूरा हो गया है और सभी कार्य बढ़िया एवं व्यवस्थित तरीके से किए गए हैं।

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि हरिद्वार में आयोजित होने वाला कुम्भ मेला पूरी तरह ’बेदाग’ होगा और देश एवं दुनिया से यहां आने वाले श्रद्धालुओं की हर अपेक्षा पर हमारी सरकार पूरी तरह खरा उतरेगी। हरिद्वार में कुंभ मेला क्षेत्र में चल रहे विभिन्न निर्माण कार्यों का निरीक्षण करने के के बाद मुख्यमंत्री ने मीडिया से बातचीत में बताया कि कुंभ मेला क्षेत्र में कुल 86 निर्माण कार्य स्वीकृत थे जिनमें से दो बाद में निरस्त किये गए थे। उन्होंने बताया कि शेष 84 में से अधिकतर काम पूरा हो गया है और सभी कार्य बढ़िया एवं व्यवस्थित तरीके से किए गए हैं। 

इसे भी पढ़ें: दुनिया की सबसे दूसरी लंबी दीवार है कुंभलगढ़, जानिए इसके बारे में 

यहां जारी एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, रावत ने कहा कि कोरोना का संक्रमण अभी खत्म नहीं हुआ है बल्कि अब वह नए रूप में आ गया है। उन्होंने कहा कि ऐसे में कुम्भ को दिव्य और भव्य के साथ सुरक्षित बनाना भी राज्य सरकार की जिम्मेदारी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके लिये केंद्र सरकार ने दिशा-निर्देश जारी किए हैं और उसी के मुताबिक ही कोरोना से बचाव के अनुकूल कुंभ की व्यवस्थाएं होंगी। उन्होंने कहा कि कुंभ में श्रद्धालुओं को स्वच्छता, आस्था, धार्मिक परम्पराएं व लोक संस्कृति देखने को मिलेगी। इससे पहले, निरीक्षण के दौरान उन्होंने सभी कार्यों के सुव्यवस्थित तरीके से किये जाने पर संतोष जताया। 

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड सरकार ने हरिद्वार कुंभ के लिए 300 करोड़ रुपए के प्रस्तावों को दी मंजूरी 

रावत ने इसके अलावा अपूर्ण कार्यों को समय पर पूरा करने का अधिकारियों को निर्देश दिया। उन्होंने अधिकारियों से काम को पूरा करने में आ रही दिक्कतों तथा उनके पूरा होने के समय को लेकर भी जानकारी ली। प्रदेश के मुख्य सचिव ओमप्रकाश व अन्य अधिकारियों के साथ सड़क मार्ग से हरिद्वार पहुंवने के दौरान मुख्यमंत्री ने रास्ते में लालतप्पड़ फ्लाई ओवर का भी निरीक्षण किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


भाजपा विधायक की विवादित टिप्पणी, ममता बनर्जी को 'राक्षसी' संस्कृति का बताया, कहा- उनके DNA में दोष है

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 24, 2021   17:10
  • Like
भाजपा विधायक की विवादित टिप्पणी, ममता बनर्जी को 'राक्षसी' संस्कृति का बताया, कहा- उनके DNA में दोष है

भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि ममता बनर्जी के डीएनए में दोष है, वह राक्षसी संस्कृति की हैं। उन्होंने कहा कि कोई भी शैतान भगवान राम से प्रेम नहीं कर सकता, ममता बनर्जी बेईमान व शैतान हैं और उनका भगवान राम से घृणा करना स्वाभाविक है।

बलिया। उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के बैरिया विधानसभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक सुरेंद्र सिंह ने रविवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को “राक्षसी” संस्कृति का करार देते हुए कहा कि उनके “डीएनए” में दोष है। कोलकाता में शनिवार को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के एक कार्यक्रम में “जयश्री राम” का नारा लगने के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नाराज होने की घटना के संदर्भ में भाजपा विधायक ने यह बात कही। सिंह ने आज अपने आवास पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा, ‘‘ममता बनर्जी के डीएनए में दोष है, वह राक्षसी संस्कृति की हैं। 

इसे भी पढ़ें: कैलाश विजयवर्गीय ने ममता बनर्जी से पूछा सवाल, जय श्री राम का नारा सुनकर अपमानित क्यों महसूस किया ? 

उन्होंने कहा, कोई भी शैतान भगवान राम से प्रेम नहीं कर सकता, ममता बनर्जी बेईमान व शैतान हैं और उनका भगवान राम से घृणा करना स्वाभाविक है। उन्होंने इसके साथ ही पश्चिम बंगाल में ममता के दल (तृणमूल कांग्रेस) के लोग जिस तरह से हिंसा और हत्याएं करते हैं, उनका कृत्‍य उनके “शैतान” होने का ही प्रमाण है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


गणतंत्र दिवस से पहले कश्मीर घाटी में कड़ी की गई सुरक्षा, औचक रूप से वाहनों की ली जा रही तलाशी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 24, 2021   17:05
  • Like
गणतंत्र दिवस से पहले कश्मीर घाटी में कड़ी की गई सुरक्षा, औचक रूप से वाहनों की ली जा रही तलाशी

अधिकारियों ने बताया कि लाल चौक से कुछ किलोमीटर की दूरी पर स्थित समारोह स्थल की बहुस्तरीय सुरक्षा की जा रही है। उन्होंने बताया कि शहर के प्रवेश नाकों पर सुरक्षा और जांच कड़ी कर दी गई है।

श्रीनगर। गणतंत्र दिवस से पहले श्रीनगर सहित कश्मीर घाटी में अन्य जगहों पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और मंगलवार, 26 जनवरी को होने वाले कार्यक्रम स्थल सहित घाटी में बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। अधिकारियों ने रविवार को बताया कि कई जगहों पर औचक रूप से वाहनों की तलाशी और यात्रियों की जामा-तलाशी ली जा रही है। उन्होंने बताया कि शहर के भीतर और बाहर विभिन्न महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों तथा अन्य जिला मुख्यालयों पर तैनात सुरक्षा बलों की संख्या बढ़ा दी गई है। 

इसे भी पढ़ें: सुरक्षा एजेंसियां को मिले कई इनपुट, अलर्ट पर सुरक्षाकर्मी, गणतंत्र दिवस पर बिजली ठप होने का मंडरा रहा खतरा ! 

उन्होंने बताया कि शेर-ए-कश्मीर क्रिकेट स्टेडियम, जहां घाटी में गणतंत्र दिवस समारोह का आयोजन होना है, सहित अन्य समारोह स्थलों पर भी सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। अधिकारियों ने बताया कि लाल चौक से कुछ किलोमीटर की दूरी पर स्थित समारोह स्थल की बहुस्तरीय सुरक्षा की जा रही है। उन्होंने बताया कि शहर के प्रवेश नाकों पर सुरक्षा और जांच कड़ी कर दी गई है। कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कहा कि स्थिति नियंत्रण में है और गणतंत्र दिवस समारोह बिना किसी व्यवधान के संपन्न होने की आशा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept