• पूर्व पार्षद एकता मंच के पदाधिकारियों का कचहरी में दिवंगत पार्षद के परिजनों को आर्थिक सहयोग दिलाने को लेकर बीता पूरा दिन

पूर्व पार्षद एकता मंच के अध्यक्ष शिवाजी शुक्ल ने कहा कि मंच के दिवंगत पार्षदों के परिजनों को आर्थिक सहयोग दिलाने की दिशा में जद्दोजहद किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पूर्व पार्षद एकता मंच का गठन पीड़ित लोगों को न्याय दिलाने के लिए ही हुआ है।

गोरखपुर। पूर्व पार्षद एकता मंच के पदाधिकारी कोरोना वैश्विक महामारी में कुछ पूर्व पार्षदों की हुई मौत को लेकर गंभीर है। मृतक पूर्व पार्षद के परिजनों को जीविकोपार्जन को सुचारू रूप से संचालित करने एवं आर्थिक सहयोग दिलाने को लेकर मृतक पार्षदों के कागजात को लेखपाल एवं संबंधित अधिकारियों तक मुहैया कराने को लेकर मंच के अध्यक्ष शिवाजी शुक्ल, प्रमुख महासचिव शशांक शेखर त्रिपाठी, जावेद अहमद खान, वसीक अहमद एवं इस्माइलपुर के पार्षद शहाब अंसारी का पूरा दिन कचहरी में बीता। पूर्व पार्षद एकता मंच के अध्यक्ष शिवाजी शुक्ल ने कहा कि मंच के दिवंगत पार्षदों के परिजनों को आर्थिक सहयोग दिलाने की दिशा में जद्दोजहद किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पूर्व पार्षद एकता  मंच का गठन पीड़ित लोगों को न्याय दिलाने के लिए ही हुआ है। ऐसी स्थिति में कोरोना वैश्विक महामारी में दिवंगत हुए पूर्व पार्षद के परिजनों को सरकारी सहयोग दिलाना मंच का दायित्व है। शुक्ल ने कहा कि दिवंगत पार्षदों के परिजनों को आर्थिक सहयोग के साथ-साथ उनके जीविकोपार्जन की भी व्यवस्था कराने की दिशा में हम लोग पहल करने की दिशा में जुटे हैं।

पूर्व पार्षद एकता मंच के प्रमुख महासचिव शशांक शेखर त्रिपाठी ने कहा कि पूर्व पार्षदों की समस्याओं को लेकर समय-समय पर उजागर करने के साथ ही साथ जन आंदोलनों को मूर्त रूप देना मंच का मकसद है। उन्होंने कहा कि कोरोना कालखंड में दिवंगत हो चुके पूर्व पार्षद के परिजनों को सुविधा दिलाने के लिए सारे कागजात को कचहरी में कंप्लीट  कराने के साथ ही संबंधित लेखपाल और अधिकारियों से मिलकर कागजात उपलब्ध कराए गए और अति शीघ्र सुविधा मुहैया कराने पर जोर दिया गया। त्रिपाठी ने कहा कि दिवंगत पार्षदों के मृत्यु प्रमाण व अनकंप्लीट कागजात को कंप्लीट करा कर पूरे दिन कचहरी में हम लोगों का बीता। ऐसी परिस्थितियों में पीड़ित परिजनों को सरकारी सुविधाएं मुहैया कराने के लिए पूर्व पार्षद एकता मंच कृत संकल्पित है।

 इस मौके पर संजय कुमार यादव, जावेद अहमद खान, शहाब अंसारी, वसीक अहमद, अहमद कमाल गुड्डू, अरविंद चौरसिया, रामपाल यादव, हाजी तहव्वर हुसैन, नीलम दुबे एवं रामजीत शर्मा आदि लोग मौजूद रहे।