विदेश में फंसे भारतीयों के लिए सरकार लाने वाली है नयी नीति, आधे घंटे में मुहैया कराई जाएगी मदद, MEA को मिले सुझाव

Airport
अनुराग गुप्ता । Aug 28, 2021 11:57AM
विदेशी में भारतीयों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार ने 100 से ज्यादा देशों में हेल्प सेंटर बनाएगी। इसके तहत मुसीबत में फंसे भारतीय कभी भी हेल्पलाइन नम्बर पर फोन कर मदद मांग सकते हैं।

नयी दिल्ली। अफगानिस्तान के काबुल से भारतीयों को निकालने के लिए केंद्र सरकार लगातार प्रयास कर रही है। वहां के हालात काफी खराब हैं। इसी बीच भारत सरकार ने इमिग्रेशन नीति में बड़े बदलाव करने की योजना बनाई है। आपको बता दें कि 4 दशक बाद केंद्र सरकार ने नयी नीति के तहत 100 से ज्यादा देशों में हेल्प सेंटर बनाने की योजना बनाई है। 

इसे भी पढ़ें: काबुल में अपने सैनिकों की शहादत का अमेरिका ने लिया बदला, ISIS-K ‘साजिशकर्ता’ पर किया हमला 

24 घंटें भारतीयों को मिलेगी मदद

विदेशी में भारतीयों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार ने 100 से ज्यादा देशों में हेल्प सेंटर बनाएगी। इसके तहत मुसीबत में फंसे भारतीय कभी भी हेल्पलाइन नम्बर पर फोन कर मदद मांग सकते हैं। जिसके 30 मिनट के भीतर ही उनकी मदद सुनिश्चित की जाएगी। हेल्पलाइन नंबर 24 घंटे काम करेगा।

हाल ही में सभी ने देखा कि अफगानिस्तान पर तालिबान के राज के बाद वहां के हालात बदतर हो गए। राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अपना मुल्क छोड़ दिया। जिसके बाद वहां पर मौजूद लोग भी देश छोड़ने के लिए विवश हो गए। भारतीयों की भी वतन वापसी के लिए सरकार प्रतिबद्ध है और आपातकालीन ऑपरेशन चला रही है।

विगत वर्षों में गलत जानकारियों की वजह से भारतीय दूसरे देशों में बुरी तरह से फंस गए थे। जिसको ध्यान में रखकर इस नयी नीति को बनाया जा रहा है। इसके तहत गलत काम करने वाली एजेंसियों को ब्लैक लिस्ट कर दिया जाएगा और उनकी जानकारी ग्लोबली साझा की जाएगी। 

इसे भी पढ़ें: तालिबान के प्रवक्ता का बयान, भारत समेत सभी देशों के साथ अच्छे संबंध चाहते हैं 

कहा जा रहा है कि छात्रों और कामगारों के साथ फर्जीवाड़ा न हो इसे भी सुनिश्चित करने का प्रयास किया जा रहा है। नयी नीति में इसके लिए भी प्रावधान होंगे। इस नयी नीति को संसद के शीतकालीन सत्र में पेश किया जा सकता है। फिलहाल विदेश मंत्रालय को इस संदर्भ में लोगों से सुझाव भी मिल गए हैं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़