दुल्हन को एक साड़ी कम मिली तो जयमाला के बाद दूल्हे को जमकर पीटा, बारातियों को भी बनाया बंधक

दुल्हन को एक साड़ी कम मिली तो जयमाला के बाद दूल्हे को जमकर पीटा, बारातियों को भी बनाया बंधक

दूल्हे के पिता द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, दूल्हे को शादी के लिए घर के अंदर बुलाया गया। जहां दुल्हन की मां और भाई ने उसे थप्पड़ मारना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं, दुल्हन पक्ष ने बारातियों को भी घर के अंदर बंधक बना लिया।

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में शादी करने गए एक युवक को दुल्हन पक्ष वालों ने ना केवल बुरी तरह पीता, बल्कि दुलहन के लिए लाए गए सारे जेवर भी रख लिए। दूल्हे पक्ष ने दुल्हन पक्ष पर दूल्हे और बारातियों को बंधक बनाकर मारने पीटने का आरोप लगाया है और कार्यवाई की मांग की है। यह मामला 23 अप्रैल का है।

यह मामला बाराबंकी जिले के थाना देवा क्षेत्र के इब्राहिमपुर खानकवा गांव का है। यहां जहांगीराबाद थाना क्षेत्र के मुजफ्फर पुर गांव की निवासी ओमप्रकाश के बेटे दिनेश रावत की बारात खानकवा निवासी जगदीश प्रसाद रावत के घर गई थी। जहां नाश्ता, द्वारचार पूजा और जयमाला की विधि पूरी कराई गई। दूल्हे के पिता द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, दूल्हे को शादी के लिए घर के अंदर बुलाया गया। जहां दुल्हन की मां और भाई ने उसे थप्पड़ मारना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं, दुल्हन पक्ष ने बारातियों को भी घर के अंदर बंधक बना लिया।

दूल्हे पक्ष का आरोप है कि दुल्हन की मां ने दुल्हन के लिए लाए गए साड़ी, जेवर और उपहार ही अपने कब्जे में ले लिए। इसके बाद दुल्हन की मां ने एक साड़ी कम बता कर दूल्हे को थप्पड़ जड़ दिए। इतना ही नहीं, लड़की ने भी शादी से इंकार कर दिया। लड़के पक्ष वालों का आरोप है कि दुल्हन का अफेयर दूसरे लड़के से है और उसके साथ शादी हो चुकी है। दूल्हे के पिता ने पुलिस को दिए प्रार्थना पत्र में मामले की जांच कर कार्रवाई करने की मांग की है। सर्किल ऑफिसर आतिश सिंह ने बताया कि देवा कोतवाल से जांच कराई जा रही है और इसके बाद ही आगे की कार्यवाई की जाएगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...