गुजरात में टीकाकरण का पूर्वाभ्यास, लाभार्थियों ने कहा- सबकुछ बहुत आसानी से हो गया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 29, 2020   15:31
गुजरात में टीकाकरण का पूर्वाभ्यास, लाभार्थियों ने कहा- सबकुछ बहुत आसानी से हो गया

पूरी प्रक्रिया की जानकारी देते हुए एक अधिकारी ने कहा कि पूर्वाभ्यास के दौरान शहरी स्वास्थ्य केंद्र से ‘डमी टीके’ इन चार केंद्रों पर भेजे गए। गांधीनगर नगर निगम (जीएमसी) ने शहर में 125 लाभार्थियों की पहचान की है।

अहमदाबाद। गुजरात के गांधीनगर और राजकोट जिलों में लगातार दूसरे दिन मंगलवार को भी टीकाकरण का पूर्वाभ्यास किया गया। इस दौरान ‘चिह्नित’ लाभार्थियों को शामिल किया गया लेकिन उन्हें वास्तविक टीका नहीं दिया गया। दो दिन तक चलने वाले इस पूर्वाभ्यास में कोविड-19 के टीकाकरण के लिए जरूरी इंतजामों की समीक्षा की जा रही है और वास्तविक टीकाकरण शुरू करने से पहले किसी भी खामी को दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। गुजरात उन चार राज्यों में शामिल है जिन्हें केंद्र ने कोविड-19 टीकाकरण के पूर्वाभ्यास के लिए चुना है। गांधीनगर में चार स्वास्थ्य केंद्रों में किए जा रहे पूर्वाभ्यास के लिए चिह्नित लोगों में सबसे पहले स्वास्थ्यकर्मियों को शामिल किया गया है। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना से हाल-बेहाल, अब चीन ने शुरू किया आपात टीकाकरण 

पूरी प्रक्रिया की जानकारी देते हुए एक अधिकारी ने कहा कि पूर्वाभ्यास के दौरान शहरी स्वास्थ्य केंद्र से ‘डमी टीके’ इन चार केंद्रों पर भेजे गए। गांधीनगर नगर निगम (जीएमसी) ने शहर में 125 लाभार्थियों की पहचान की है। गांधीनगर के मुख्य जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एमएच सोलंकी ने कहा, ‘‘हमें को-विन सॉफ्टवेयर से लाभार्थियों की सूची मिली है। पूर्वाभ्यास को लेकर टीका देने के लिए प्रशिक्षित कर्मियों को इन केंद्रों में बने विभिन्न कक्षों में नियुक्त किया गया है।’’ एक लाभार्थी ने कहा कि प्रक्रिया बहुत सरल है और सब कुछ बहुत आसानी से हो गया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।