राजस्थान में वैक्सीन की बर्बादी पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय गंभीर, पत्र लिखकर मामले की जांच करने को कहा

राजस्थान में वैक्सीन की बर्बादी पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय गंभीर, पत्र लिखकर मामले की जांच करने को कहा

डॉ. हर्षवर्धन ने राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा को पत्र लिखे जाने की जानकारी दी। उन्होंने लिखा कि राजस्थान के कुछ ज़िलों में कोरोना वैक्सीन की बर्बादी की ख़बरों को गंभीरता से लेते हुए मैंने राज्य के स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखकर मामले की जांच करने को कहा है।

पूरा देश कोरोना महामारी से लड़ाई में लगा है वहीं कोरोना वैक्सीन को लेकर भी राजनीति जारी है। कांग्रेस शासित राज्य राजस्थान में वैक्सीन को लेकर घमासान कुछ ज्यादा ही तेज है। वजह है वैक्सीन की बर्बादी। एक तरफ जहां कांग्रेस की ओर से केंद्र पर वैक्सीन नहीं देने का आरोप लगाया जा रहा है वहीं बीजेपी ने गहलोत सरकार पर वैक्सीन की बर्बादी का आरोप लगाया है। हिंदी दैनिक अखबार में छपी रिपोर्ट के अनुसार राज्य के 8 जिलों के 35 वैक्सीनेशन सेंटर की डस्टबिन में 500 वायल पड़े मिले हैं। जिसके बाद मामले को गंभीरता से लेते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा को पत्र लिखा है।

इसे भी पढ़ें: तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए सांरग ने लिखा डॉ.हर्षवर्धन को पत्र

अपने ट्विटर अकाउंट से केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा को पत्र लिखे जाने की जानकारी दी। उन्होंने लिखा कि राजस्थान के कुछ ज़िलों में कोरोना वैक्सीन की बर्बादी की ख़बरों को गंभीरता से लेते हुए मैंने राज्य के स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखकर मामले की जांच करने को कहा है। इसके साथ ही डॉ. हर्षवर्धन ने वैक्सीन वैक्सीन की बर्बादी रोकने के लिए स्थानीय स्तर पर बेहतर योजना बनाने को कहा है।

क्या है पूरा मामला 

बीजेपी मीडिया सेल के हेड अमित मालवीय ने एक दैनिक अखबार की खबर साझा करते हुए राज्य की सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि राजस्थान में कोविड के टीके कचरे के डिब्बों में फेंके जा रहे हैं।  एक तरफ राहुल गांधी वैक्सीन को लेकर रोज नसीहत देते हैं, दूसरी तरफ कांग्रेस की सरकारों में टीके बर्बाद किए जा रहें हैं। झारखंड, छत्तीसगढ़ और राजस्थान इसकी मिसाल हैं। कांग्रेस कोविड के खिलाफ लड़ाई को कमजोर कर रही है। दरअसल, दैनिक अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक राज्य के 8 जिलों के 35 वैक्सीनेशन सेंटर की डस्टबिन में 500 वायल पड़े मिले हैं। एक वायल में 10 डोज होते हैं. और अगर 500 वायल डस्टबिन में मिले हैं तो इसका मतलब है लगभग 2500 से भी ज्यादा डोज खराब हुए हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।