नेताओं की चुनावी मजबूरी, सजधज के हेमा मालिनी ने काटी फसल तो राम कृपाल ने चलाया ई-रिक्शा

नेताओं की चुनावी मजबूरी, सजधज के हेमा मालिनी ने काटी फसल तो राम कृपाल ने चलाया ई-रिक्शा

बिहार की राजधानी पटना में रविवार को एक अलग तरह का ‘‘रोड शो’’ देखने को मिला। यहां के ऐतिहासिक गांधी मैदान में रविवार को सुबह की सैर पर निकले लोग उस वक्त हतप्रभ रह गये जब उन्होंने एक केंद्रीय मंत्री को ई-रिक्शा चलाते हुये देखा, जो नगर के एक संसदीय क्षेत्र से भाजपा के उम्मीदवार हैं।

देश-भर में आम चुनाव की धूम है। नेता और पार्टी अपने-अपने राजनीतिक संभावनाएं तलाशने में जुट गए हैं। विभिन्न पार्टियों के चुनावी पिटारें में चुनावी वायदे और जुमलों की भरमार है। ऐसे चुनावी मौसम में नेता वो भी करने को तैयार है जिसे उन्होंने कभी सोचा ना होगा। जी हां, एक तस्वीर वायरल हो रही है जिसमें मथुरा की सांसद और दोबारा वहां से प्रत्याशी बनीं अभिनेत्री हेमा मालिनी गेहूं के खेतों में मजदूरी कर रही हैं। हेमा मालिनी ने कल अपने चुनाव अभियान की शुरुआत की और गोवर्धन क्षेत्र में एक गेहूं के खेत में काम करने वाली महिलाओं को एक हाथ उधार देने के लिए ताजा कटाई वाली फसल के बंडल ले जाते हुए देखा गया। 

भले ही हेमा मालिनी अपने पांच साल के सांसदी कार्यकाल में मथुरा से दूरी बना रखी हों पर फिलहाल वो वोटरों को लुभाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही हैं। बिहार की राजधानी पटना में रविवार को एक अलग तरह का ‘‘रोड शो’’ देखने को मिला। यहां के ऐतिहासिक गांधी मैदान में रविवार को सुबह की सैर पर निकले लोग उस वक्त हतप्रभ रह गये जब उन्होंने एक केंद्रीय मंत्री को ई-रिक्शा चलाते हुये देखा, जो नगर के एक संसदीय क्षेत्र से भाजपा के उम्मीदवार हैं। कभी लालू प्रसाद के करीबी रहे राम कृपाल यादव टी-शर्ट और ट्रैक पैंट में ई-रिक्शा चलाते हुये दिखे।

कई युवाओं को अपने मोबाइल फोन के कैमरे में उस पल को कैद करते हुए देखा गया। यादव ने विशाल मैदान का एक चक्कर लगाया, जिसकी परिधि दो किलोमीटर से अधिक है। चुनावी मौसम में नोताओं द्वारा ऐसे कई काम किए जाएंगे जिसके बारे में किसी ने सोचा भी नही होगा। बहराल देखना यह दिलचस्प होगा कि नेताओं का यह अंदाज जनता को कितना पसंद आता है।   





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept