दिग्विजय सिंह और कमलनाथ को दिया गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने जबाब

दिग्विजय सिंह और कमलनाथ को दिया गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने जबाब

उंगली उठाने से पहले सेवा भारती के कैंप में जाकर अपनी आंखों से देखना चाहिए की आरएसएस कोरोना पीडि़तों की मदद के लिए क्या कर रहा है। मानवता की सेवा के प्रति समर्पित संगठन की आलोचना करना बेहद निंदनीय है।

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संकट के बीच भी राजनीति जोरों से जारी है। विपक्ष लगातार शिवराज सरकार पर कोरोना की रोकथाम और उसके खिलाफ लड़ाई में प्रदेश की जनता को स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने में असफल होने का आरोप लगा रही है। इस बीच मध्यप्रदेश के दो पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और कमलनाथ द्वारा दिए गए बयानों पर प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है।

 

इसे भी पढ़ें: भोपाल सहित मध्य प्रदेश के कई जिलों में बारिश के आसार

दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कोरोना पर शिवराज सरकार को 10 सुझाव दिया है। इस सुझाव पर पलटवार करते हुए गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने जवाब दिया है। आरएसएस को लेकर दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि दिग्विजय सिंह को आरएसएस का फोविया हो गया है। उन्हें इस पर उंगली उठाने से पहले सेवा भारती के कैंप में जाकर अपनी आंखों से देखना चाहिए की आरएसएस कोरोना पीडि़तों की मदद के लिए क्या कर रहा है। मानवता की सेवा के प्रति समर्पित संगठन की आलोचना करना बेहद निंदनीय है।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के तीन शहरों में बढ़ा कोरोना मरीजों के ठीक होने वालों की संख्या

वहीं कमलनाथ के मुख्यमंत्री होने पर ऑक्सीजन बैंक बनाने वाले बयान पर तंज कसते हुए मंत्री मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि कमलनाथ ऑक्सीजन का बैंक क्या बनाते, चलती चलती बैंक बंद करवा कर चले गए। प्रदेश में किसानों की कर्जमाफी के फेर में बैंकों को डिफॉल्टर कराने वाले कमलनाथ जी ऑक्सीजन, रेमडेसिविर इंजेक्शन का बैंक बनाने की सलाह दे रहे हैं। मेरा सवाल है कि छत्तीसगढ़,राजस्थान और महाराष्ट्र में कांग्रेस की सरकार है तो वहां ऑक्सीजन व जरूरी इंजेक्शन के बैंक क्यों नहीं बनाए गए? इसके अलावा जेएनयू के प्रोफेसर की वैक्सीन वाले बयान पर गृह मंत्री ने कहा कि इनका भाव वैक्शीन लगाना नहीं लोगों के बीच में भ्रम पैदा करना है, टुकड़े-टुकडे गैग का काम है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।