वोकल फॉर लोकल अभियान को जन आंदोलन बनाने में हुनर हाट अहम भूमिका निभा रहे: नकवी

Naqvi
जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा आयोजित 26वें ‘हुनर हाट’ में संवाददाताओं से नकवी ने कहा कि 20 फरवरी को शुरू हुए इस ‘हुनर हाट’ में अब तक 12 लाख से अधिक लोग आ चुके हैं।
नयी दिल्ली। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शनिवार को यहां कहा कि ‘वोकल फॉर लोकल’ को जन आंदोलन बनाने में ‘हुनर हाट’ अहम भूमिका निभा रहा हैं। ‘हुनर हाट’ कलाकारों को प्रोत्साहित करने की अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की महत्वाकांक्षी पहल है। जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा आयोजित 26वें ‘हुनर हाट’ में संवाददाताओं से नकवी ने कहा कि 20 फरवरी को शुरू हुए इस ‘हुनर हाट’ में अब तक 12 लाख से अधिक लोग आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि 1 मार्च 2021 तक चलने वाले ‘हुनर हाट’ में अगले दो दिन में आने लोगों की संख्या 16 लाख तक पहुंचने की उम्मीद है। उल्लेखनीय है कि 10 दिवसीय हुनर हाट का उद्घाटन रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने किया था। नकवी ने कहा कि अब तक कई केंद्रीय मंत्री, संसद सदस्य, वरिष्ठ नौकरशाह, विभिन्न देशों के राजनयिक, जाने-माने उद्योगपति हुनर हाट में दस्तकारों, शिल्पकारों, कलाकारों की हौसला अफजाई करने आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि मंत्रालय की महत्वकांक्षी पहल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘वोकल फॉर लोकल’ अभियान की प्रवर्तक बन गयी है और लोग करोड़ों रुपये के हस्तनिर्मित उत्पाद देसी कलाकारों से खरीद रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: मुद्रास्फीति की दर को लगातार काबू में रखना मोदी सरकार की बड़ी सफलता

नकवी ने कहा कि जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में आयोजित हुनर हाट में आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, झारखण्ड, कर्नाटक, केरल, लद्दाख, मध्य प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, नागालैंड, ओड़िशा, पुडुचेरी, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल सहित देश के 31 से अधिक राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों से 600 से अधिक दस्तकार, शिल्पकार, कारीगर शानदार स्वदेशी उत्पादों के साथ शामिल हुए हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़