मायावती के प्रधानमंत्री बनने वाले बयान पर बोले अखिलेश यादव-मैं भी चाहता था कि वह PM बनें

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 29, 2022   10:58
मायावती के प्रधानमंत्री बनने वाले बयान पर बोले अखिलेश यादव-मैं भी चाहता था कि वह PM बनें
Google common license

अखिलेश यादव ने कहा कि मैं भी चाहता था कि मायावती प्रधानमंत्री बनें।उन्होंने कहा, अगर बहुजन समाज के लोगों के साथ गठबंधन जारी रहता है, तो बसपा और डॉ भीम राव अंबेडकर के सिद्धांतों का पालन करने वाले देखते कि देश का प्रधानमंत्री कौन बनता।

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती के प्रधानमंत्री बनने की इच्छा जाहिर करने के कुछ घंटों बाद समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह भी यही चाहते थे और पिछली बार (2019 आम चुनाव में) इसी लिए उनकी पार्टी के साथ गठबंधन किया था। अखिलेश ने कहा कि अगर उनका गठबंधन जारी रहता, तो बसपा और डॉ भीम राव अंबेडकर के अनुयायियों ने देखा होता कि कौन प्रधानमंत्री बनता। मायावती की प्रधानमंत्री बनने की आकांक्षा के बारे में इफ्तार पार्टी के बाद यहां पत्रकारों द्वारा पूछे जाने पर अखिलेश ने कहा, मैं इससे (बयान) से खुश हूं। मैं भी यही चाहता था।

इसे भी पढ़ें: 3 साल पहले इस्तीफा देकर शुरू की राजनीति और हुए फ्लॉप, सरकार ने आईएएस अधिकारी फैसल को किया बहाल

पिछली बार (2019 के लोकसभा चुनावों में) गठबंधन (बसपा के साथ) इसी के लिए बनाया था। उन्होंने कहा, अगर बहुजन समाज के लोगों के साथ गठबंधन जारी रहता है, तो बसपा और डॉ भीम राव अंबेडकर के सिद्धांतों का पालन करने वाले देखते कि देश का प्रधानमंत्री कौन बनता। इससे पहले मायावती ने कहा था, मैं आने वाले दिनों में सिर्फ उप्र का मुख्यमंत्री और देश का प्रधानमंत्री बनने का सपना देख सकती हूं लेकिन राष्ट्रपति बनने का सपना कभी नहीं देख सकती। राज्य में चलाए जा रहे बुल्डोजर के बारे में यादव ने आरोप लगाया कि जाति और धर्म को देखते हुए कार्रवाई की जा रही हैं।

इसे भी पढ़ें: 52 साल बाद दिल्ली में पड़ रही है भीषण गर्मी, जलती 'लू' के साथ 3 मई तक आग उगलेगा आसमान

उन्होंने आरोप लगाया, अगर वे भाजपा के लोगों के घर और मकान को गिराते हैं, तो वे मुआवजा देंगे। गोरखपुर में 700 मीटर में दुकानों को तोड़ा गया और उसके बाद मुआवजा दिया गया। सुनने में आ रहा हैं कि 100-150 करोड़ रुपये नहीं बल्कि 200 करोड़ मुआवजा उठाया गया। उन्होंने कहा, अगर सरकार मुख्यमंत्री जी को मुआवजा दे सकती हैं तो जो गरीबों को मुआवजा क्यों नहीं मिल सकता? गौरतलब हैं कि गोरखपुर में सड़क चौड़ीकरण के लिए दुकानों और ढांचों को तोड़ा गया था। धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाये जाने के बारे में यादव ने कहा, सरकार को नौकरी देने वालों की सूची भी जारी करनी चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...