वैक्सीन उपलब्ध रहे तो 15 अगस्त तक असम की 30 प्रतिशत आबादी को टीका लगाने का लक्ष्य- हिमंत बिस्व सरमा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 30, 2021   14:33
वैक्सीन उपलब्ध रहे तो 15 अगस्त तक असम की 30 प्रतिशत आबादी को टीका लगाने का लक्ष्य- हिमंत बिस्व सरमा

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने कहा, टीके उपलब्ध रहे तो 15 अगस्त तक असम की 30 प्रतिशत आबादी को टीका लगाने का लक्ष्य होगा।मुख्यमंत्री ने कहा कि इस आयु वर्ग में लोगों के टीकाकरण की गति अगले महीने के पहले हफ्ते तक धीमी रहेगी।

गुवाहाटी।असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने रविवार को कहा कि अगर टीके उपलब्ध रहते हैं तो उनकी सरकार का 15 अगस्त तक राज्य की 3.2 करोड़ आबादी में से 30 प्रतिशत को टीका लगाने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि राज्य में 18-44 आयु वर्ग के लोगों के लिए टीके की केवल 20,000 से 25,000 खुराकें उपलब्ध हैं। गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (जीएमसीएच) का दौरा करते हुए सरमा ने कहा कि उन्होंने टीका उत्पादन करने वाली दो कंपनियों के अधिकारियों से बातचीत की है जिन्होंने 18-44 आयु वर्ग के लिए जून माह में सात लाख खुराकों की आपूर्ति का वादा किया है। उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा, “दोनों कंपनियों ने इस समूह के लिए जून में सात लाख टीके भेजने का वादा किया है लेकिन उन्होंने कोई तारीख नहीं बताई है।”

इसे भी पढ़ें: अलीगढ़ में जहरीली शराब से 25 लोगों की मौत की पुष्टि, भाजपा सांसद ने 35 के मरने का किया दावा

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस आयु वर्ग में लोगों के टीकाकरण की गति अगले महीने के पहले हफ्ते तक धीमी रहेगी। उन्होंने कहा कि टीकों की खेप पांच से छह जून के बीच असम पहुंचने की संभावना है। सरमा ने कहा, “राज्य का लक्ष्य 15 अगस्त तक अपनी 30 प्रतिशत आबादी के टीकाकरण का है बशर्ते जरूरी खुराकें उपलब्ध हों।” उन्होंने कहा कि राज्य में टीकाकरण अभियान जून में मई की तुलना में 30 प्रतिशत अधिक और जुलाई में 50 प्रतिशत तक बढ़ाया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।