मेरठ कैंट,किठौर में सबसे अधिक 13-13 प्रत्याशी जबकि हस्तिनापुर में सबसे कम 8 रह गए मैदान में

मेरठ कैंट,किठौर में सबसे अधिक 13-13 प्रत्याशी जबकि हस्तिनापुर में सबसे कम 8 रह गए मैदान में

इस बार 2022 में यह संख्या थोड़ी बढ़ गई और कुल 80 प्रत्याशी मैदान में हैं। सबसे कम प्रत्याशी का रिकार्ड इस बार भी हस्तिनापुर के नाम रहा है। हस्तिनापुर विधानसभा क्षेत्र में 2017 में भी छह प्रत्याशी ही चुनाव लड़े थे। इस बार आठ प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं, जो सबसे कम है।

● 2017 में भी सबसे कम छह प्रत्याशी हस्तिनापुर में ही थेे

● 2017 में कुल 72 प्रत्याशी थे, इस बार 80 मैदान में

मेरठ,हस्तिनापुर ने इस बार भी सबसे कम प्रत्याशी का रिकार्ड बनाया। 2017 में भी सबसे कम छह प्रत्याशी हस्तिनापुर में थे। इस बार सबसे कम आठ प्रत्याशी हस्तिनापुर से ही मैदान में हैं। 2017 में कुल 72 प्रत्याशी थे तो 2022 में 80 प्रत्याशी भाग्य आजमा रहे हैं।

लगातार यह दूसरी बार है कि मेरठ जिले की सात सीटों पर 100 से कम प्रत्याशी मैदान में उतरे हैं। 2017 में सात सीटों पर नामांकन वापसी के बाद 72 प्रत्याशियों ने चुनाव लड़ा था।

इस बार 2022 में यह संख्या थोड़ी बढ़ गई और कुल 80 प्रत्याशी मैदान में हैं। सबसे कम प्रत्याशी का रिकार्ड इस बार भी हस्तिनापुर के नाम रहा है। हस्तिनापुर विधानसभा क्षेत्र में 2017 में भी छह प्रत्याशी ही चुनाव लड़े थे। इस बार आठ प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं, जो सबसे कम है।

2017 में सबसे अधिक 15 प्रत्याशी मेरठ शहर सीट पर थे तो इस बार मेरठ कैंट और किठौर में सबसे अधिक 13-13 प्रत्याशी मैदान में उतरे हैं। कुल मिलाकर कम प्रत्याशियों का लगातार यह दूसरा चुनाव हो रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।