कोरोना वैक्सीनेशन में भारत ने रचा नया इतिहास, 100 करोड़ के आंकड़े को किया पार

कोरोना वैक्सीनेशन में भारत ने रचा नया इतिहास, 100 करोड़ के आंकड़े को किया पार

देश में सबसे ज्यादा टीकाकरण करने वाले राज्यों में उत्तर प्रदेश सबसे आगे हैं। उसके बाद महाराष्ट्र, तब पश्चिम बंगाल, फिर गुजरात और तब मध्य प्रदेश की बारी आती है। भारत में 16 जनवरी को वैक्सीनेशन शुरू किया गया था।

भारत में कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में नया मुकाम हासिल किया है। भारत ने 100 करोड़ कोरोना टीकाकरण का नया इतिहास बना दिया है। इससे जुड़े खास कार्यक्रम में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल पहुंच चुके हैं। माना जा रहा है कि इस ऐतिहासिक मौके पर देश के अलग-अलग राज्यों में विभिन्न प्रकार के जश्न का आयोजन किया जाएगा। गौरतलब है कि भारत कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में अग्रणी देशों में एक है। भारत में फिलहाल तीन तरह के टीके कोरोना महामारी के खिलाफ इस्तेमाल किए जा रहे हैं। उनमें भारत बायोटेक की कोवैक्सीन है जबकि दूसरा सिरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया की कोविशिल्ड है। इसके अलावा रूस की स्पूनिक वी टीके का भी देश में इस्तेमाल किया जा रहा है।

देश में सबसे ज्यादा टीकाकरण करने वाले राज्यों में उत्तर प्रदेश सबसे आगे हैं। उसके बाद महाराष्ट्र, तब पश्चिम बंगाल, फिर गुजरात और तब मध्य प्रदेश की बारी आती है। भारत में 16 जनवरी को वैक्सीनेशन शुरू किया गया था। सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर को टीका लगाया गया था। 1 मार्च को वैक्सीनेशन का दूसरा चरण शुरू किया गया था जिसमें 60 साल से ज्यादा उम्र वालों के लिए टीका उपलब्ध कराई गई थी। 1 अप्रैल से 45 साल के ऊपर के सभी लोगों को वैक्सीन दी जाने लगी। 1 मई के बाद से 18 साल के ऊपर के लोगों को वैक्सीन दी जा रही है और यह लगातार जारी भी है। वर्तमान में देखें तो 63467 वैक्सीनेशन सेंटर है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।