चीन के डबल स्टैंडर्ड की भारत ने UNSC में खोली पोल, कहा- बलपूर्वक यथास्थिति को बदलना आम सुरक्षा का अपमान

UNSC
creative common
अभिनय आकाश । Aug 23, 2022 12:26PM
संयुक्त राष्ट्र में भारत की राजदूत रुचिरा कंबोज ने कहा कि बल द्वारा यथास्थिति को बदलने के प्रयास और एकतरफा कार्रवाई किसी भी देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के सम्मान के उद्देश्य का अपमान है।

भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में बातचीत और सहयोग के माध्यम से आम सुरक्षा को बढ़ावा देने पर चर्चा के दौरान चीन पर निशाना साधते हुए कटाक्ष किया है। संयुक्त राष्ट्र में भारत की राजदूत रुचिरा कंबोज ने कहा कि बल द्वारा यथास्थिति को बदलने के प्रयास और एकतरफा कार्रवाई किसी भी देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के सम्मान के उद्देश्य का अपमान है। हालांकि संयुक्त राष्ट्र में भारत की दूत रुचिरा कंबोज ने अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा बनाए रखने पर सुरक्षा परिषद की बैठक में भाग लेते समय किसी देश का नाम नहीं लिया, लेकिन यह स्पष्ट था कि टिप्पणी किस देश के लिए है।  

इसे भी पढ़ें: ताइवान पर चीन की तिलमिलाहट, यूक्रेन- रूस की जंग के बीच ऑस्ट्रेलिया में 17 देशों के बीच युद्धाभ्यास, भारत भी हुआ शामिल | Pitch Black Exercise

हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार कंबोज ने सामान्य सुरक्षा को रेखांकित करते हुए कहा कि सामान्य सुरक्षा तभी संभव हो सकता है जब सभी देश आतंकवाद जैसे सामान्य खतरों के खिलाफ एक साथ खड़े हों और अन्यथा उपदेश देते समय डबल स्टैंडर्ड्स में शामिल न हों। कम्बोज ने वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत और चीन के बीच सैन्य गतिरोध की पृष्ठभूमि के खिलाफ कहा कि सामान्य सुरक्षा तभी संभव है, जब देश एक-दूसरे की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करें। 

इसे भी पढ़ें: विदेश मंत्री एस जयशंकर का बयान, अत्यंत मुश्किल दौर से गुजर रहे हैं भारत-चीन के संबंध

भारतीय पक्ष ने बार-बार चीन पर 2020 की शुरुआत से एलएसी पर सैनिकों को इकट्ठा करके सीमा प्रबंधन पर कई समझौतों और प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है। गतिरोध ने द्विपक्षीय संबंधों को अब तक के सबसे निचले स्तर पर ले लिया है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने हाल ही में चीन पर सीमा समझौतों की अवहेलना करने का आरोप लगाया था। गलवान घाटी गतिरोध के कारण दोनों देशों के बीच संबंध बहुत कठिन दौर से गुजर रहा है। विदेश मंत्री ने कहा था कि हमारे पास 1990 के दशक में चीन के साथ समझौते हैं जो सीमा क्षेत्र में बड़े पैमाने पर सैनिकों को लाने पर रोक लगाते हैं, उन्होंने इसकी अवहेलना की है। 

अन्य न्यूज़