भारत शिक्षा के महत्वपूर्ण केंद्र के रूप में उभरा है: सुषमा स्वराज

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jan 28 2019 5:06PM
भारत शिक्षा के महत्वपूर्ण केंद्र के रूप में उभरा है: सुषमा स्वराज
Image Source: Google

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद की छात्रवृत्तियों के माध्यम से भारत में शिक्षा का मौका देकर दूसरे देशों को क्षमता निर्माण में मदद देने की एक छोटी सी कोशिश की गई है।

नयी दिल्ली। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सोमवार को कहा कि ज्ञान के प्रति जिज्ञासा भारतीय संस्कृति का बुनियादी तत्व है और देश शिक्षा के एक केंद्र के रूप में उभरा है। भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद :आईसीसीआर: के कार्यक्रम में अपने संबोधन में सुषमा स्वराज ने कहा कि देश में आईआईटी, आईआईएम, एनआईटी जैसे श्रेष्ठ शैक्षणिक संस्थान हैं जो जैव प्रौद्योगिकी, सौर ऊर्जा, वस्त्र प्रबंधन सहित अन्य क्षेत्रों में विशिष्ठ कोर्स पेश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत में अभी 6000 विदेशी छात्र आईसीसीआर के विभिन्न छात्रवृत्तियों के तहत पढ़ाई कर रहे हैं और हर साल यह संख्या बढ़ रही है। 

इसे भी पढ़ें : प्रवासी भारतीय दिवस पर बोलीं सुषमा स्वराज, भारत हो रहा है युवा

विदेश मंत्री ने कहा कि भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद की छात्रवृत्तियों के माध्यम से भारत में शिक्षा का मौका देकर दूसरे देशों को क्षमता निर्माण में मदद देने की एक छोटी सी कोशिश की गई है। सुषमा ने कहा कि ज्ञान के प्रति जिज्ञासा भारतीय संस्कृति और सभ्यता की बुनियाद है जहां नालंदा, तक्षशिला, विक्रमशिला जैसे संस्थान रहे हैं और जहां पूर्ण रूप से व्यवस्थित शिक्षा प्रणाली रही। उन्होंने कहा कि इन संस्थानों ने आधुनिक भारत में ऐसे ही कई संस्थानों के आधार निर्माण का कार्य किया।

इसे भी पढ़ें : भारत की बड़ी कामयाबी, समरकंद संवाद में उठी आतंक के खिलाफ आवाज



इस अवसर पर उन्होंने अफगानिस्तान के उद्योग एवं वाणिज्य मंत्रालय में प्रशासनिक एवं वित्त उप मंत्री अजमल हामीद अबदुलरहीमजई, इथोपिया के कृषि राज्य मंत्री काबा उर्गेसा दिनसा, भूटान के पूर्व विदेश मंत्री ल्योनपो दामचो दोरजी तथा पुर्तगाल के कास्टैंटिनो सी हर्मन्स को एल्यूमिनी एवार्ड प्रदान किया।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video