अच्छी खबर! ऑक्सीजन की भारी कमी के बीच इस शहर में खुलेगा पहला श्वास बैंक

अच्छी खबर! ऑक्सीजन की भारी कमी के बीच इस शहर में खुलेगा पहला श्वास बैंक

समाजसेवी निर्मल गहलोत ने कोरोना संक्रमण के तेजी से फैलाव और ऑक्सीजन की भारी कमी को देखते हुए जोधपुर शहर में श्वास बैंक स्थापित करने की इस पहल को शुरू किया है। बता दें कि गहलोत ने अब तक 25 ऑक्सीजन जनरेटर का ऑर्डर दे दिया है।

बढ़तें कोरोना मामलों के बीच देश में पहली बार ब्रेथ बैंक या श्‍वास बैंक खुलने जा रहा है। आपको बता दें कि यह बैंक जोधपुर में खुलेगा। भारी ऑक्सीजन की किल्लत को देखते हुए यह बैंक खोला जा रहा है। जानकारी के मुताबिक,  पहले चरण के लिए  500 ऑक्सीजन जनरेटर लगवाए जा रहे हैं। समाजसेवी निर्मल गहलोत ने कोरोना संक्रमण के तेजी से फैलाव और ऑक्सीजन की भारी कमी को देखते हुए जोधपुर शहर में श्वास बैंक स्थापित करने की इस पहल को शुरू किया है। बता दें कि गहलोत ने अब तक 25 ऑक्सीजन जनरेटर का ऑर्डर दे दिया है। इसके साथ ही उन्होंने भामाशाहों से श्वास बैंक स्थापित करने के लिए लोगों को आगे आने का भी आग्रह किया है। बता दें कि उनकी इस पहले के बाद से कई उद्यमी मदद के लिए आगे आए है जिसके जरिए जल्द ही 500 ऑक्सीजन जनरेटर का ब्रेथ बैंक स्थापित हो जाएगा।

इसे भी पढ़ें: PM मोदी ने ई-संपत्ति कार्डों के वितरण की शुरूआत की, कहा- हमारा प्रयास है कि गाँव समर्थ हों, आत्मनिर्भर हों

इस ऑक्सीजन जनरेटर से हर मिनट में 5 लीटर ऑक्सीजन तैयार की जा सकती है और साथ ही इसको इस्तेमाल करना काफी आसान है। इसमें बाहरी हवा को एकत्र कर ऑक्सीजन जनरेट कर ऑक्सीजन सप्लाई की जाती है जिसका इस्तेमाल कोई भी व्यक्ति आसानी से कर सकता है। बता दें कि इस वक्त ऐसी पहल कई लोगों के लिए एक रामबाण साबित हो सकता हैं। यह पहल बुधवार से शुरू हुई जिसके बाद अब तक 128 ऑक्सीजन जनरेटर का ऑर्डर दे दिया गया है। आने वाले 15 दिनों में 500 ऑक्सीजन जनरेटर जोधपुर में मंगवाकर  श्वास बैंक स्थापित कर दिया जाएगा। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।