कोरोना के दौरान प्रदेश में जीवन और जीविका बचाने के उद्देश्य से औद्योगिक और आर्थिक गतिविधियां रही चालू

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 27, 2021   19:47
कोरोना के दौरान प्रदेश में जीवन और जीविका बचाने के उद्देश्य से औद्योगिक और आर्थिक गतिविधियां रही चालू

मुख्यमंत्री के 3टी ट्रेस, ट्रैक और ट्रीट अभियान के साथ-साथ आशिंक कोरोना कर्फ्यू तथा टीकाकरण से प्रदेश में कोरोना का संक्रमण नियंत्रित करने में सफलता मिली है। आंशिक कोरोना कर्फ्यू के समय से प्रदेश में जीवन और जीविका बचाने के उद्देश्य से औद्योगिक, आर्थिक गतिविधियां, चीने मिले और गेहूँ खरीद चालू रही।

अपर मुख्य सचिव ‘सूचना’ नवनीत सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री के 3टी ट्रेस, ट्रैक और ट्रीट अभियान के साथ-साथ आशिंक कोरोना कर्फ्यू तथा टीकाकरण से प्रदेश में कोरोना का संक्रमण नियंत्रित करने में सफलता मिली है। प्रदेश में कोविड-19 का संक्रमण अन्य प्रदेशों के अपेक्षा कम है। आंशिक कोरोना कर्फ्यू के समय से प्रदेश में जीवन और जीविका बचाने के उद्देश्य से औद्योगिक, आर्थिक गतिविधियां, चीने मिले और गेहूँ खरीद चालू रही। उन्होंने बताया कि सर्विलांस के माध्यम से निगरानी समितियों द्वारा ट्रेसिंग के तहत घर-घर जाकर संक्रमण की जानकारी ली जा रही है। उन्होंने बताया कि 97,000 ग्रामीण पंचायतों में 5 मई, 2021 से एक विशेष अभियान चलाकर, जिसमें 80,000 निगरानी समितियों द्वारा घर-घर जाकर उन लोगों का जिनमें किसी प्रकार के संक्रमण के लक्षण होने पर उनका एन्टीजन टेस्ट भी कराया जा रहा है। अगर एन्टीजन टेस्ट निगेटिव आ रहा है और लक्षण हैं तो उनका आरटीपीसीआर टेस्ट भी कराया जा रहा है, इसके साथ-साथ लगभग 15 लाख मेडिकल किट भी बांटी गयी है। 31 मार्च से लेकर अब तक जितने भी टेस्ट हुए हैं उनमें से लगभग 65 प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्रों में किए गये हैं। उन्होंने बताया कि सर्विलांस के माध्यम से सरकारी मशीनरी द्वारा उत्तर प्रदेश की 24 करोड़ की जनसंख्या में से अब तक लगभग 18 करोड़ से अधिक लोगों से उनका हालचाल जाना गया है।

सहगल ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा सभी को सरकारी अस्पतालों में और सभी निजी मेडिकल कालेज जो थे, जिनकों सरकार ने अधिकृत कर लिया था उनमें भी कोविड-19 के मरीजों का मुफ्त में इजाज किया गया। इसके साथ-साथ केस कम होने के बाद भी टेस्टिंग निरन्तर जारी रखी गई। 2.5 लाख से 3.0 लाख प्रतिदिन टेस्ट किए जा रहे हैं। कल 2,77,890 लाख टेस्ट किए गये हैं। देश में सबसे अधिक टेस्ट करने वाला राज्य उत्तर प्रदेश है, जिसने 5 करोड़ 70 लाख 85 हजार 424 टेस्ट किये हैं। ये टेस्ट घटाये नहीं जा रहे हैं यह संख्या बरकरार रखी जा रही है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 222 नये मामले आये हैं। प्रदेश में विगत 24 घंटे में 169 लोग तथा अब तक 16,79,913 लोग कोविड-19 से ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में कोरोना के कुल 3,165 एक्टिव मामले हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में टीकाकरण का अभियान चलाया जा रहा है। प्रधानमंत्री द्वारा सभी को मुफ्त टीकाकरण जो 21 जून से चलाया गया है उसमें और तेजी आयी है। जून के महीने में जो 01 करोड़ टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया था उसे 24 जून को ही पूरा कर लिया गया और अगस्त के महीने के आखिर तक 10 करोड़ टीकाकरण किया जायेगा। उत्तर प्रदेश देश में सबसे अधिक अब तक टीकाकरण करने वाला राज्य बन गया है। प्रदेश में अब तक 3 करोड़ 4 लाख 51 हजार लोगों का वैक्सीनेशन किया जा चुका है।

सहगल ने बताया कि प्रदेश में टीकाकरण में तेजी लाने के लिए अलग-अलग समूहों जैसे-न्यायिक कार्य से जुड़े लोग, सरकारी कर्मचारियों, पत्रकार बन्धुओं, रेहड़ी, पटरी, ठेला एवं दुकानदार आदि लोगों का अलग से टीकाकरण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि संभावित तीसरी लहर से लड़ने के लिए 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के अभिभावक को अभिभावक स्पेशल तथा महिलाओं के लिए स्पेशल बूथ बनाकर उनका टीकाकरण किया जा रहा है। लगभग 6000 से अधिक टीकाकरण के सेन्टर खोले गये हैं। प्रदेश सरकार कोविड-19 की सम्भावित तीसरी लहर की तैयारी के लिए सभी मेडिकल कालेज पीकू के बेड स्थापित किये जा रहे हैं, जिसमें 5800 से अधिक पीकू के बेड तैयार कर लिए गये हैं। उन्होंने बताया कि वर्तमान में डेल्टा प्लस वैरियन्ट देश के कई प्रदेशों में आ गया है। डेल्टा प्लस वैरिएंट से बचाव के लिए जो लोग इन प्रदेशों से आ रहे हैं, उनकी विशेष जांच की जाए, ताकि डेल्टा प्लस जो नया वैरिएंट है उसे प्रदेश में आने से रोका जा सके।

सहगल ने बताया कि मिशन रोजगार, मिशन शक्ति एवं मिशन कल्याण इन तीनों का बहुत तेजी से कार्य प्रारम्भ हो चुका है। बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा 6696 से अधिक अध्यापकों को नियुक्ति पत्र वितरित किया जायेगा और अन्य विभागों को मुख्यमंत्री द्वारा निर्देशित किया गया है कि जो भी उनके रिक्त पद हैं उनकों शीघ्र नियमानुसार पारदर्शी तरीके से भरने का अभियान चलायें। युवाओं को अधिक से अधिक नौकरी दी जाए। निजी क्षेत्र में एमएसमएई के माध्यम से अधिक से अधिक रोजगार सृजित किया जा रहा है। 23 जून को मुख्यमंत्री द्वारा लगभग 31 हजार नई इकाइयों को बैंकों से समन्वय करके लगभग 2505 करोड़ से अधिक ऋण उपलब्ध कराया गया। इन इकाइयों से कम से कम 2 लाख से अधिक लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। यह प्रक्रिया तेजी से बढ़ाई जा रही है, पिछले 4 साल में लगभग 1.5 करोड़ से अधिक युवाओं को निजी उद्योगों में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराये गये हैं। इसके साथ-साथ लगभग 4 लाख से अधिक युवाओं को सरकारी नौकरी भी दी गई हैं। इस वर्ष भी जो लक्ष्य 35 लाख इकाईयों अधिक से अधिक 70 हजार करोड रुपये़ का ऋण देने का लक्ष्य रखा है और इसके माध्यम से युवाओं को बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर प्रदान किये जायेंगे।

सहगल ने बताया कि प्रदेश सरकार किसानों के हितों के लिए कृतसंकल्प है और किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उनकी फसल को खरीदे जाने की प्रक्रिया कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए तेजी से की गयी है। गेहूँ क्रय अभियान के तहत लगभग 13 लाख किसानों से 56.39 लाख मी. टन गेहूँ खरीदा गया है। जो विगत वर्ष से दोगुना है। उत्तर प्रदेश गेंहूँ खरीद की मात्रा में उत्तर प्रदेश देश में तीसरे नम्बर पर है। खरीफ की फसल के लिए खाद बीज उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण के दौरान कोरोना कर्फ्यू से जो परिवार प्रभावित हुए हैं उन्हें प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत सभी को मुफ्त राशन दिया गया है। प्रदेश सरकार द्वारा भी लगभग 3.28 करोड़ ऐसे परिवारों जिनको प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में भी राशन दिया गया उनकों भी पाँच किलो प्रति यूनिट राशन मुफ्त में दिया गया। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत नम्बर, 2021 तक मुफ्त राशन दिया जायेगा। इसके साथ-साथ ऐसे परिवार जो रोज कमाने वाले परिवार, जैसे-रेहड़ी, पटरी, खोमचे, ठेला, दिहाड़ी मजदूर, नाई आदि इन सभी को 1-1 हजार रुपये प्रतिमाह माह दिया जा रहा है। प्रदेश में पंजीकृत संगठित व असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के खातों में भी 1-1 हजार रुपये प्रतिमाह स्थानान्तरित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री जी ने लोगों से अपील की है कि मास्क का प्रयोग अनिवार्य रूप से करे, सेनेटाइजर व साबुन से हाथ धोते रहे, टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकाॅल का पालन अवश्य करें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।