पूर्व CM ने अपने भीतर के 'सेक्युलर अमरिंदर' को मार दिया, हरीश रावत बोले- ...कैप्टन को जाना चाहिए

पूर्व CM ने अपने भीतर के 'सेक्युलर अमरिंदर' को मार दिया, हरीश रावत बोले- ...कैप्टन को जाना चाहिए

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने कहा कि भाजपा के खिलाफ कुछ कहने या करने के बजाए वे (अमरिंदर सिंह) भाजपा का साथ देते हैं तो यह चौंकाने वाली बात है। ऐसा लगता है कि उन्होंने अपने अंदर के सेक्युलर अमरिंदर सिंह को मार दिया है।

नयी दिल्ली। पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत ने बुधवार को पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद उन्होंने बताया कि वो उत्तराखंड के विषय पर बातचीत करने के लिए आए थे। वहां पर चुनाव होने वाले हैं और मैं प्रदेश में आई प्राकृतिक आपदा के बारे में जानकारी देने आया था। हालांकि उन्होंने पंजाब में चल रहे सियासी घमासान के बारे में भी टिप्पणी की। 

इसे भी पढ़ें: अमरिंदर से दो-दो हाथ करने वाले सिद्धू ने चन्नी की तरफ मोड़ी अपनी मिसाइल, एक महीने में ही आ गई इस्तीफा देने की नौबत? 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने कहा कि भाजपा के खिलाफ कुछ कहने या करने के बजाए वे (अमरिंदर सिंह) भाजपा का साथ देते हैं तो यह चौंकाने वाली बात है। ऐसा लगता है कि उन्होंने अपने अंदर के सेक्युलर अमरिंदर सिंह को मार दिया है।

उन्होंने कहा कि उन्हें सर्वधर्म संभाव का प्रतीक माना जाता था और लंबे समय तक वो कांग्रेस की परंपराओं से जुड़े रहे। अगर वह जाना चाहते हैं, तो उन्हें जाना चाहिए। इसी बीच हरीश रावत ने कहा कि 10 महीनों तक किसानों को सीमाओं पर रखने वाली भाजपा को कौन माफ कर सकता है ? जिस तरह से किसान आंदोलन से निपटा गया है उसके लिए क्या पंजाब उन्हें माफ कर देगा?

क्या कांग्रेस को होगा नुकसान ?

कांग्रेस नेता ने कहा कि कांग्रेस को कोई नुकसान नहीं होगा, यह वास्तव में हमारे प्रतिद्वंद्वियों के वोटों को विभाजित करेगा। कांग्रेस प्रभावित नहीं होगी। हमारा वोट चन्नी सरकार के प्रदर्शन पर निर्भर करेगा, जिस तरह से चन्नी ने शुरुआत की है उसने पंजाब और पूरे देश के सामने एक अच्छी छाप छोड़ी है।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस से कैप्टन की राहें हुईं जुदा, नई सियासी पिच पर करेंगे बैटिंग, भाजपा के साथ गठबंधन से परहेज नहीं 

दरअसल, पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह जल्द ही अपने राजनीतिक दल के गठन का ऐलान करने वाले हैं। उन्होंने खुद इसकी जानकारी दी थी। उन्होंने कहा था कि पंजाब के भविष्य को लेकर लड़ाई जारी है। मैं जल्द ही अपनी राजनीतिक पार्टी के गठन की घोषणा करूंगा ताकि पंजाब और उसके लोगों, साथ ही पिछले एक साल से अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहे किसानों के हितों के लिए काम किया जा सके। इसी बीच उन्होंने भाजपा के साथ सीटों को लेकर समझौता होने की उम्मीद भी जताई थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।