नड्डा का RJD पर तंज, ‘तेल पिलावन-डंडा भजावन’ वाले लोग नहीं कर सकते बिहार का विकास

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 30, 2020   17:06
नड्डा का RJD पर तंज, ‘तेल पिलावन-डंडा भजावन’ वाले लोग नहीं कर सकते बिहार का विकास

बेगूसराय के कई इलाकों में वामदलों का प्रभाव रहा है। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में इस सीट पर भाजपा के गिरिराज सिंह ने भाकपा के कन्हैया कुमार को पराजित किया था।

बेगूसराय। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने लालू यादव के नेतृत्व वाले राजद पर बिहार को पीछे ले जाने का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को कहा कि ‘‘तेल पिलावन, डंडा भजावन’’वाले लोगों ने पहले भी मौका मिलने पर कुछ नहीं किया और आगे भी कुछ नहीं करेंगे। बेगूसराय में चुनावी रैली को संबोधित कर रहे भाजपा अध्यक्ष ने लालू परिवार को निशाने पर लेते हुए कहा, ‘‘आज कल तेजस्वी यादव कह रहे हैं कि हम ये करेंगे, हम वो करेंगे....हम ऐसे करेंगे, हम वैसे करेंगे। लेकिन हमें यह देखना होगा कि जिसने पहले कुछ किया हो, वही आगे कुछ कर सकता है।’’ लालू प्रसाद का नाम लिये बिना नड्डा ने कहा कि जिसने पहले ‘तेल पिलावन, डंडा भजावन’किया हो, वह आगे भी डंडा ही भांजेगा। उन्होंने कहा कि इन्हीं (तेजस्वी) के पिता ने ‘तेल पिलावन, डंडा भजावन’रैली की थी और ये विकास की बात करते हैं। नड्डा ने कहा, ‘‘तेजस्वी यादव से मैं जानना चाहता हूं कि उनके माता-पिता दोनों यहां के मुख्यमंत्री रहे हैं ..., आज अपने पोस्टर से उनके चेहरे क्यों हटा दिये ? अगर चेहरा हटाया तो बिहार की जनता से वह माफी क्यों नहीं मांग रहे हैं?’’ राजद पर बिहार का विकास नहीं करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने स्थानीय में कहा, ‘‘अइसने काम किये हैं कि लाज त लगबे करेगा। ’’ नड्डा ने कहा कि बेगूसराय में आज से 15 साल पहले हड़ताल के बिना कुछ नहीं होता था जबकि आज यहां मेडिकल कॉलेज बन रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं आश्वस्त करता हूं कि यह मेडिकल कॉलेज विश्वस्तरीय होगा। इसके साथ ही यहां इंजीनियरिंग कॉलेज भ्री बन रहा है।’’

गौरतलब है कि बेगूसराय के कई इलाकों में वामदलों का प्रभाव रहा है। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में इस सीट पर भाजपा के गिरिराज सिंह ने भाकपा के कन्हैया कुमार को पराजित किया था। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) को जनादेश देने की अपील करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने लोगों से पूछा, ‘‘आप बताइए,लालटेन जलानी है कि एलईडी बल्ब जलाना है? लूटराज रखना है या प्रत्यक्ष नकद अंतरण या डीबीटी से सीधे सरकारी योजनाओं का पैसा खाते में चाहिए ?बाहुबल चाहिए या विकास बल चाहिए? उन्होंने कहा, ‘‘आपको बिहार का विकास करना है तो राजग को जिताना है।’’ नड्डा ने कहा कि पहले चुनाव जाति और मजहब के आधार पर होते थे लेकिन जब से नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री बने, तब से भारत की राजनीति की चाल, चरित्र और संस्कृति बदल गई है। उन्होंने कहा कि अब जो भी नेता आता है, अपना रिपोर्ट कार्ड लेकर आता है। लोजपा नेता चिराग पासवान पर परोक्ष निशाना साधते हुए नड्डा ने कहा कि चुनाव के वक्त कुछ लोग गलतफहमी पैदा करना चाहते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘वे एक तरफ तो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भलाबुरा कहते हैं और दूसरी तरफ नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हैं। हमें ऐसे लोगों से भी सावधान रहना है।’’ उन्होंने कहा कि राजग एकजुट है और भाजपा, जदयू, वीआईपी और हम पार्टी ... यही राजग है। 

इसे भी पढ़ें: गुजरात की सेवा के लिए केशुभाई को सदैव याद किया जाएगा: जेपी नड्डा

गौरतलब है कि बिहार चुनाव में राजग से अलग होने के बाद भी चिराग, भाजपा के प्रति नरम रुख अख्तियार किए हुए हैं, लेकिन नीतीश कुमार पर निशाना साधने का कोई मौका वह नहीं छोड़ रहे हैं। हाल ही में चिराग ने स्वयं को प्रधानमंत्री मोदी का ‘हनुमान’ बताया था। कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिए केंद्र सरकार के कार्यों का उल्लेख करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कोविड-19 की जांच की प्रयोगशालाओं की संख्या में वृद्धि के साथ अब जांच की क्षमता प्रतिदिन बढ़कर 15 लाख हो गई है। उन्होंने कहा ‘‘ प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत करीब 1.70 लाख करोड़ रुपये देकर मार्च से लेकर छठ और दीवाली तक 80 करोड़ गरीबों को पांच किलो गेहूं या चावल और एक किलो दाल मुफ्त दी जा रही है।’’ नड्डा ने कहा कि किसान सम्मान निधि योजना के तहत 8.56 करोड़ किसानों को 2-2 हजार रुपये दिए गए हैं। राजग उम्मीदवारों को जिताने की अपील करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा, ‘‘बेगूसराय अपने आप में राजनीतिक चेतना की भूमि है। यह ऐसी धरती है जिसने देश को दिशा दी है, यह बिहार को दिशा देने में समक्ष है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।