कमलनाथ बोले- भोपाल मेट्रो का नाम होगा भोज मेट्रो, उनके ही विधायक ने कहा- रहने दो

कमलनाथ बोले- भोपाल मेट्रो का नाम होगा भोज मेट्रो, उनके ही विधायक ने कहा- रहने दो

भोपाल में मेट्रो परियोजना का शिलान्यास करते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भोपाल को एक्सीलेंस सीटी बनाने की बात कही। उन्होनें कहा कि प्रदेश की राजाधानी भोपाल के बारे में अगले 10 सालों के हिसाब से सोचकर योजनाए तैयार की जाएगी। आने वाले समय में मेट्रो रूट को बढाया जाएगा।

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मेट्रो परियोजना का शिलान्यास मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गुरूवार को कर दिया। इस मौके पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि भोपाल मेट्रो का नाम राजा भोज के नाम से भोज मेट्रो होगा। प्रदेश की राजधानी में 2023 तक मेट्रो शुरू करने का लक्ष्य रखा गया है। जिसमें 6941.40 करोड़ रूपए की लागत आएगी। भोपाल में दो रूड मेट्रो के लिए निर्धारित किए गए है। पहला रूट भोपाल के करोंद से एम्स जो 14.99 किलो मीटर का होगा वही दूसरा रूट भदभदा से रत्नागिरी जो 12.88 किलो मीटर का होगा। कुल 27.87 किलो मीटर के इन दो रूटो पर भोज मेट्रो दौड़ सकेगी।

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ सरकार का बड़ा फैसला, महापौर और अध्यक्ष का चुनाव करेंगे पार्षद

राजधानी भोपाल में चलने वाली मेट्रो जयपुर में चलने वाली मेट्रो जैसी होगी। जिसमें शुरूआत में छह की जगह तीन कोच लगाए जाएगें। जो भोपाल के दो रूटो पर दौड़ेगी। भोज मेट्रो के लिए यात्रीयों को स्टेशन पर जायदा इंतजार नहीं करना पडेगा हर पाँच मिनट में स्टेशन पर मेट्रो रेल हाजिर होगी और यह स्टेशन पर 30 सेकेंड तक रूकेगी। इसके बाद अलगी मेट्रो पाँच मिनट बाद आएगी। मेट्रो रेल कार्पोरेशन के अधिकारीयों का दावा है कि भोपाल में दोनों रूटों पर 2023 तक मेट्रो रेल का संचालन शुरू हो जाएगा। मेट्रो रूट पर कुल 27 मेट्रो दौड़ेगी। जिसके लिए भोपाल में 30 मेट्रो स्टेशन बनाए जाएगें जिसमें 2 भूमिगत मेट्रो स्टेशन भी शामिल होगें।

इसे भी पढ़ें: हनी ट्रैप मामले में SIT ने कहा, हाई-प्रोफाइल मामले की जांच के नतीजे हो सकते हैं बड़े

भोपाल में मेट्रो परियोजना का शिलान्यास करते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भोपाल को एक्सीलेंस सीटी बनाने की बात कही। उन्होनें कहा कि प्रदेश की राजाधानी भोपाल के बारे में अगले 10 सालों के हिसाब से सोचकर योजनाए तैयार की जाएगी। आने वाले समय में मेट्रो रूट को बढाया जाएगा। देश की राजधानी दिल्ली की तर्ज पर भोपाल को मंडीदीप और सिहोर से जोड़ने की योजना है। ताकि प्रदेश की राजधानी पर जनसंख्या और ट्रेफिक का दवाब कम हो सकें और लोगों से राजधानी भोपाल की कनेक्टविटी बढ़ सके। इस मौके पर प्रदेश के आवास एवं नगरीय विकास मंत्री जयवर्धन सिंह ने मेट्रो योजना के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ की विकासवादी सोच को धन्यवाद कहा।

इसे भी पढ़ें: शिवपुरी में दलित बच्चों की हत्या करने वालों को मिलनी चाहिए फांसी: मायावती

भोज मेट्रो शिलान्यास के मौके पर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और भोपाल महापौर आलोक शर्मा ने भोपाल मेट्रो का नाम भोज मेट्रो करने पर मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। वही मुख्यमंत्री कमलनाथ के एलान भोपाल मेट्रो का नाम "भोज मेट्रो" के 2 मिनट बाद ही काँग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने उनकी बात काटते हुए कहा कि राजा भोज के नाम पर कुछ और बना लेंगे। मेट्रो का नाम भोपाल मेट्रो ही रहने दे। जिसके बाद अब कहा जा रहा है कि यह सिर्फ कांग्रेस में ही संभव है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।