करणी सेना ने बीजेपी कार्यालय के बाहर किया हंगामा, मंत्री को दिखाया काला कपड़ा

करणी सेना ने बीजेपी कार्यालय के बाहर किया हंगामा, मंत्री को दिखाया काला कपड़ा

करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने बिसाहूलाल के खिलाफ की जमकर नारेबाजी की। इस दौरान बीजेपी कार्यकर्ताओं और करणी सेना के बीच नोकझोंक भी देखने को मिली।

भोपाल। मध्य प्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री बिसाहूलाल सिंह के सवर्ण महिलाओं पर दिए विवादित बयान को लेकर बवाल जारी है। इस मामले को लेकर बीजेपी कार्यालय में शनिवार को जमकर हंगामा किया। करणी सेना ने बीजेपी कार्यालय के बाहर मंत्री बिसाहूलाल सिंह का घेराव किया। करणी सेना ने मंत्री बिसाहूलाल सिंह को काले कपड़े दिखाकर बयान का विरोध किया। 

इसे भी पढ़ें:अखिलेश पर अनुराग ठाकुर का तंज, कहा- तुम दंगे कराते हो, हम दंगल कराते हैं 

वहीं करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने बिसाहूलाल के खिलाफ की जमकर नारेबाजी की। इस दौरान बीजेपी कार्यकर्ताओं और करणी सेना के बीच नोकझोंक भी देखने को मिली। मंत्री बिसाहूलाल सिंह के गाड़ी का घेराव करने और काले कपड़े दिखाने पर पुलिस ने करणी सेना के लोगों को हिरासत में लिया है।

इसी कड़ी में भोपाल में महिला कांग्रेस ने भी बिसाहूलाल के खिलाफ प्रदर्शन किया। रोशनपुरा चौराहे पर महिला कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मंत्री बिसाहूलाल का पुतला जलाया। और इसी के साथ साथ कांग्रेस ने मंत्री के इस्तीफे की मांग की।

इसे भी पढ़ें:राजनाथ सिंह बोले- हम किसी को छेड़ेंगे नहीं लेकिन हमें किसी ने छेड़ दिया तो उसे छोडेंगे नहीं 

आपको बता दें कि अनूपपुर में सर्वजन सुखाय सामाजिक संस्था ने नारी रत्न सम्मान समारोह का आयोजन किया था। आयोजने में मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री बिसाहूलाल सिंह शामिल हुए थे।इस कार्यक्रम में मंत्री महोदय महिलाओं के अधिकार की बात कर रहे थे। इसी दौरान उन्होंने विवादित बयान दे डाला।

मंत्री ने कहा कि बड़े-बड़े लोग और सवर्ण अपने घर की महिलाओं को समाज में कंधे से कंधा मिलाकर चलने नहीं देते। बड़े-बड़े लोग अपने घर की महिलाओं को कैद करके रखते हैं। समानता लाना है तो उच्च जाति की महिलाओं को घर से खींचकर निकालो। तभी वो समानता से काम कर सकेंगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।