कोविड सुरक्षा नियमों को ध्यान में रखते हुए चिंतपूर्णी मंदिर परिसर में किया जा सकेगा हवन - डी सी ऊना

कोविड सुरक्षा नियमों को ध्यान में रखते हुए चिंतपूर्णी मंदिर परिसर में किया जा सकेगा हवन - डी सी ऊना

राघव शर्मा ने बाहरी राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं से अपील की कि वह अपनी आरटीपीसीआर नेगटिव रिपोर्ट अथवा कोविड वैक्सीनेशन की दोनों डोज का प्रमाण पत्र साथ लाएं। उन्होंने कहा कि अंर्तराज्यीय बैरियर पर पुलिस वांछित प्रमाण पत्रों की चैकिंग कर रही है तथा आरटीपीसीआर नेगटिव रिपोर्ट अथवा दोनों डोज का प्रमाण पत्र दिखाने के बाद ही प्रदेश में प्रवेश करने दिया जा रहा है।

ऊना।   माता श्री चिंतपूर्णी के दर्शनार्थ हेतू पूर्व में जारी की गई एसओपी में आंशिक संशोधन किया गया है। इस संबंध में जानकारी देते हुए उपायुक्त ऊना राघव शर्मा ने बताया कि कोविड-19 सुरक्षा नियमों को मध्यनजर रखते हुए ही माता श्री चिंतपूर्णी मंदिर परिसर में हवन किया जा सकेगा।

उन्होंने कहा कि हवन क्षेत्र में किसी भी प्रकार की भीड़ एकत्रित करने की अनुमति नहीं होगी।भक्तों ने मां चिंतपूर्णी के दर्शन किए तथा मंगल की कामना की। सुबह से ही श्रद्धालुओं की भारी भीड़ मंदिर परिसर में देखने को मिली। श्रद्धालुओं को दर्शन पर्ची लेकर ही मंदिर में अनुमति मिल रही है। प्रशासन एडीबी भवन, शंभू बैरियर तथा एमआरसी पार्किंग में दर्शन पर्ची उपलब्ध करवा रहा है। नवरात्र के विशेष अवसर पर मां के दरबार एवं पूरे मंदिर परिसर की रंग-बिरंगे फूलों से सजावट की गई है।

इसे भी पढ़ें: राज्यपाल ने कांगड़ा जिला केशक्तिपीठ नगरकोट धाम माता वज्रेश्वरी मंदिर में माथा टेका

मंदिर आयुक्त एवं उपायुक्त ऊना राघव शर्मा ने कहा कि प्रसिद्ध शक्तिपीठ मां श्री चिंतपूर्णी में कोविड प्रोटोकाॅल के तहत ही श्रद्धालुओं को दर्शनों की अनुमति प्रदान की जा रही है। मंदिर प्रशासन ने कोविड एसओपी की अनुपालना सुनिश्चित करने के लिए पूरे प्रबंध किए हैं। भक्तों को चलते-चलते ही दर्शन करने की अनुमति दी गई है तथा मंदिर परिसर में खडे़ होने व रूकने की अनुमति नहीं दी जा रही है।

राघव शर्मा ने बाहरी राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं से अपील की कि वह अपनी आरटीपीसीआर नेगटिव रिपोर्ट अथवा कोविड वैक्सीनेशन की दोनों डोज का प्रमाण पत्र साथ लाएं। उन्होंने कहा कि अंर्तराज्यीय बैरियर पर पुलिस वांछित प्रमाण पत्रों की चैकिंग कर रही है तथा आरटीपीसीआर नेगटिव रिपोर्ट अथवा दोनों डोज का प्रमाण पत्र दिखाने के बाद ही प्रदेश में प्रवेश करने दिया जा रहा है। किसी भी असुविधा से बचने के लिए श्रद्धालु आवश्यक प्रमाण पत्र साथ लाएं अन्यथा उन्हें बैरियर से ही वापिस भेज दिया जाएगा।राघव शर्मा ने डियूटी पर तैनात कर्मचारियों को कोविड अनुरूप व्यवहार की अनुपालना सुनिश्चित करने के साथ-साथ श्रद्धालुओं की भीड़ एकत्रित न होने दें और सामाजिक दूरी का विशेष ध्यान रखने तथा बिना मास्क श्रद्धालुओं का चालान करने के निर्देश भी दिए।

 

मां के दरबार में माथा टेकने आए श्रद्धालु भी मंदिर प्रबंधन के इंतजामों से संतुष्ट दिखे। अपने परिवार के साथ पंजाब के मुक्तसर से आए बलविंदर सिंह ने कहा कि मंदिर प्रशासन ने कोविड प्रोटोकाॅल की अनुपालना सुनिश्चित करने के लिए अच्छे इंतजाम किए हैं। अपने पिता के साथ जालंधर से माथा टेकने पहुंची अवनी ने कहा कि वह मां चिंतपूर्णी के दर्शन करने आए हैं तथा यहां आकर अच्छा लग रहा है। प्रशासन ने यहां पर बेहतर इंतजाम किए हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।