कुम्भ भारतीय संस्कृति, धरोहर, सनातन धर्म का संगम हैः वीके सिंह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 22, 2019   18:31
कुम्भ भारतीय संस्कृति, धरोहर, सनातन धर्म का संगम हैः वीके सिंह

यह पूछे जाने पर कि क्या पाकिस्तान से कोई प्रतिनिधि यहां आया है, विदेश राज्यमंत्री ने बताया, पाकिस्तान से डाक्टर रमेश कुमार नाम के एक हिंदू प्रतिनिधि आए हैं।

प्रयागराज। विदेश राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह ने शुक्रवार को यहां कहा कि कुम्भ सिर्फ मेला नहीं, बल्कि यह भारतीय संस्कृति, भारतीय धरोहर और भारत के सनातन धर्म का संगम है और यहां आकर भारत की विविधता में एकता देखने को मिलती है। कुम्भ मेले का भ्रमण कराने 187 देशों के 189 प्रतिनिधियों को यहां लेकर आए सिंह ने कहा,  कुम्भ को एक वैश्विक स्तर मिला है, इसलिए हम इन देशों के प्रतिनिधियों को लेकर यहां आए हैं। विश्व में सभी को पता होना चाहिए कि आखिर कुम्भ क्या है। उन्होंने कहा,  आज तक लगभग 22 करोड़ लोग कुम्भ मेले में आ चुके हैं और इसके प्रबंधन आदि का विश्लेषण का काम हम विश्व पर छोड़ते हैं। केंद्र और प्रदेश सरकार ने जिस ढंग से इसका प्रचार-प्रसार किया है, यह सबके मन में बैठ गया है। क्या आप कभी सोच सकते हैं कि सऊदी अरब से एक महिला आएंगी इस मेले में। वहां से महिला प्रतिनिधि आई हैं। 

यह पूछे जाने पर कि क्या पाकिस्तान से कोई प्रतिनिधि यहां आया है, विदेश राज्यमंत्री ने बताया,  पाकिस्तान से डाक्टर रमेश कुमार नाम के एक हिंदू प्रतिनिधि आए हैं। वह सिंधी काउंसिल के मुखिया भी हैं और उनकी इच्छा कुम्भ में डुबकी लगाने की थी। जनरल वीके सिंह ने अपनी पत्नी भारती सिंह के साथ संगम में स्नान किया और इसके बाद पूजा अर्चना की। फिनलैंड का प्रतिनिधित्व कर रहे मार्क लैमिटी ने कुम्भ भ्रमण को लेकर अपना अनुभव साझा करते हुए कहा,  मैं पहली बार कुम्भ मेले में आया हूं और यहां की व्यवस्था शानदार है। यहां सबकुछ इतना सुव्यवस्थित है, यह देखकर हम हैरान हैं। 

इसे भी पढ़ें: वीके सिंह ने HAL की क्षमता पर उठाए सवाल, कहा- विमान के हिस्से रनवे पर गिर रहे

उन्होंने कहा,  मैंने यहां संगम में डुबकी लगाई और लोगों की आस्था देखकर लगता है कि इतनी बड़ी संख्या के पीछे यही आस्था काम करती है। पेरिस से आए डाक्टर डानियल नेजेर्स ने कहा,  मैंने भी संगम में स्नान किया। भारत की संस्कृति, परंपरा महान है और कुम्भ मेले में आने का हमें सौभाग्य मिला जिसके लिए हम भारत सरकार के आभारी हैं। यह प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार को सुबह 9:30 बजे बमरौली हवाईअड्डे पर आया जहां प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने उनका स्वागत किया। विदेशी मेहमानों को बस द्वारा अरैल लाया गया जहां से उन्हें क्रूज के जरिए किला घाट लाया गया। किला घाट के पास उन्होंने अक्षयवट का दर्शन किया और इसके बाद संगम में स्नान किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...