फर्जी लोन का मामला: तेलंगाना पुलिस ने दिल्ली एयरपोर्ट से चीनी नागरिक को किया गिरफ्तार

फर्जी लोन का मामला: तेलंगाना पुलिस ने दिल्ली एयरपोर्ट से चीनी नागरिक को किया गिरफ्तार

तेलंगाना पुलिस ने तुरंत फर्जी लोन के मामले में झू वेई को मिलाकर 4 लोगों को अबतक गिरफ्तार किया है। लेकिन झू वेई की गिरफ्तारी अहम बताई जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हैदराबाद पुलिस झू वेई को काफी समय से ढूंढ रही थी।

नयी दिल्ली। तेलंगाना पुलिस ने मोबाइल ऐप के माध्यम से तुरंत फर्जी लोन देने के मामले में बड़ी कार्रवाई करते हुए एक और चीनी नागरिक को गिरफ्तार किया है। बता दें कि गिरफ्तार किए हुए चीनी नागरिक का नाम झू वेई बताया जा रहा है। जिसकी उम्र 27 साल है। पुलिस ने झू वेई को दिल्ली एयरपोर्ट से उस वक्त पकड़ा जब वह शंघाई जाने के लिए फ्रैंकफर्ट की फ्लाइट पकड़ रहा था। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली पुलिस ने किया फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 5 लोगों को किया गिरफ्तार 

तुरंत फर्जी लोन के मामले में तेलंगाना पुलिस ने झू वेई को मिलाकर कुल 4 लोगों को अबतक गिरफ्तार किया है। लेकिन झू वेई की गिरफ्तारी अहम बताई जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हैदराबाद पुलिस झू वेई को काफी समय से ढूंढ रही थी। जिस वक्त पुलिस ने झू वेई के साथियों को अपने कब्जे में लिया था उसी वक्त से उसकी खोजबीन जारी थी। हालांकि, पुलिस को कामयाबी दिल्ली एयरपोर्ट में जाकर मिली।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्ली एयरपोर्ट में जब हैदराबाद पुलिस ने लोन ऐप कम्पनियों से जुड़े सवाल पूछे तो उसने शुरू में किसी भी तरह के संबंध होने से इंकार कर दिया। हालांकि, बाद में पुलिस ने जब उसका लैपटॉप खंगाला तो कई महत्वपूर्ण दस्तावेज हाथ लगे। जो यह साफ-साफ दर्शा रहे हैं कि झू वेई का लोन ऐप कम्पनियों के साथ सीधा संबंध है। 

इसे भी पढ़ें: फर्जी कॉल सेंटर ने 4,500 विदेशी नागरिकों को बनाया अपना शिकार, 100 करोड़ रुपए की ठगी की 

कॉल सेंटर करते थे प्रताड़ित !

पुलिस अधिकारियों से मिली जानकारी के मुताबिक, झू वेई सात कॉल सेंटर चलाने वाली चार अलग-अलग कम्पनियों को प्रमुख था। कॉल सेंटर के माध्यम से लोन लेने वालों से वसूली के नाम पर धमकाने का काम करते थे। झू वेई के सभी कॉल सेंटर बड़े-बड़े महानगरों से संचालित होते थे। जिनमें गुरुग्राम, बेंगलुरु और हैदराबाद शामिल है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि ऐसी ही ऐप आधारित कंपनियों द्वारा परेशान किए जाने की वजह से एक इंजीनियर समेत तीन लोगों ने आत्महत्या कर ली। जिसके बाद पुलिस ने त्वरित जांच शुरू की।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।