पदयात्रा से सत्ता विजय की ओर पहुंच पाएंगे जगन मोहन!

By अभिनय आकाश | Publish Date: May 20 2019 6:33PM
पदयात्रा से सत्ता विजय की ओर पहुंच पाएंगे जगन मोहन!
Image Source: Google

एग्जिट पोल के अनुमान को अगर मानकर चले तो इसकी गूंज को आंध्र प्रदेश के लोगों ने बड़े ध्यान से सुना अपना प्यार जगन मोहन पर जमकर बरसाया। हालांकि इसकी वास्तविकता का असल तकाजा तो 23 मई को ही होगा लेकिन वाईएसआर कांग्रेस के आंध्र प्रदेश में मजबूती से उभरने को कोई खारिज भी नहीं कर सकता है।

नई दिल्ली। रावली जगन, कवाली जगन' राजनीतिक अभियान के लिए बनाया गए इस गीत का अर्थ तो बहुत कम लोगों को ही समझ आएगा खासकर हिन्दी भाषी लोगों को तो बिल्कुल भी नहीं लेकिन इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी के यूट्यूब चैनल पर अपलोड किए गए वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के आधिकारिक अभियान गीत को एक महीने के भीतर ही 60 लाख से अधिक बार देखा गया।

इसे भी पढ़ें: गैर भाजपाई दलों को एकजुट करने में लगे नायडू, राहुल और पवार से की मुलाकात

एग्जिट पोल के अनुमान को अगर मानकर चले तो इसकी गूंज को आंध्र प्रदेश के लोगों ने बड़े ध्यान से सुना और अपना प्यार जगन मोहन पर जमकर बरसाया। हालांकि इसकी वास्तविकता का असल तकाजा तो 23 मई को ही होगा लेकिन वाईएसआर कांग्रेस के आंध्र प्रदेश में मजबूती से उभरने को कोई खारिज भी नहीं कर सकता है। पूरे देश में जब चुनाव चल रहे थे तो सभी दल के नेता गठबंधन साधने और मोदी को रोकने की कवायद में लगे थे लेकिन सुर्खियों से दूर अपने प्रदेश की सियासत के मिजाज को एक नेता चुपचाप से बैठे भांपने की कवायद में लगा रहा। 14 महीने की अपनी चुनावी यात्रा के दौरान 3648 किमी की सड़के नापने वाले 46 साल के वाई एस जगनमोहन रेड्डी की गिनती आंध्र प्रदेश के बड़े नेताओं में होती है। इनको जगन रेड्डी भी कहते हैं। रेड्डी वाईएसआर कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वाईएस राजशेखर रेड्डी के बेटे जगन रेड्डी विधानसभा में विपक्ष के नेता भी हैं। जगन रेड्डी की पहचान एक नेता के अलावा के एक सफल बिजनेसमैन के तौर पर भी रही है। राजनीति में कदम रखने से पहले जगन रेड्डी ने 1999-2000 में बिजनेस से अपने करियर की शुरुआत की।

इसे भी पढ़ें: चंद्रबाबू नायडू ने की राहुल से मुलाकात, भाजपा विरोधी मोर्चा मजबूत बनाने पर की चर्चा





कर्नाटक के पास संदूर में उन्होंने पॉवर कंपनी स्थापित कर अपने बिजनेस का आधार रखा। 2004 में पिता वाईएस राजशेखर रेड्डी के सीएम बनने के बाद जगन रेड्डी के करियर को उड़ान मिली। उनका बिजनेस खनन, इन्फ्रास्ट्रक्चर, सीमेंट निर्माण और मीडिया तक में फैल गया। वे तेलुगू अखबार साक्षी और चैनल साक्षी टीवी के फाउंडर भी हैं। सितंबर 2009 में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में तत्कालीन मुख्यमंत्री वाईएस राजशेखर रेड्डी की अचानक मृत्यु के बाद उनके पुत्र जगनमोहन रेड्डी ने आंध्र प्रदेश में एक ओडेरपु यात्रा (शोक यात्रा) शुरू की। हालाँकि कांग्रेस नेतृत्व द्वारा उनका समर्थन नहीं किया गया था। तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने तेलंगाना मुद्दे को लेकर राज्य में बढ़ती अस्थिर स्थिति का दावा करते हुए ओदारपु यात्रा का विरोध किया था। लेकिन जगन अड़े रहे और इस दौरान राज्य में जगन का ग्राफ बढ़ता गया। यह पूरा वाक्या एक तरह से जगन का कांग्रेस के प्रति बगावती ऐलान था। अब बस यह यह फैसला होना बाकी रह गया था कि कांग्रेस उन्हें निष्कासित करती है या वे खुद पार्टी से इस्तीफा देते हैं।

इसे भी पढ़ें: चुनाव परिणाम से पहले केजरीवाल से मिले चन्द्रबाबू नायडू, AAP ने शिष्टाचार भेंट बताया



साल था 2010 का और तारीख थी 29 नवंबर की जब जगन मोहन ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। जिसके बाद जगनमोहन रेड्डी द्वारा 2011 में वाईएसआर कांग्रेस की नींव रखी। इसके बाद तो बस उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा और विधायक से शुरू हुआ उनका राजनीतिक सफर नेत प्रतिपक्ष तक पहुंचा। वर्तमान के चुनाव जगन मोहन रेड्डी के लिए उम्मीदों का चुनाव है चाहे वो लोकसभा का हो या फिर आंध्र प्रदेश की विधानसभा का दोनों ही जगह रेड्डी ने मजबूती के साथ अपने दावेदारी को रखा। अब जनता उनके वादों-इरादों पर कितना भरोसा करती है इसका तकाजा तो 23 मई को परिणाम आने के बाद ही पता चलेगा।

जगन रेड्डी के राजनीतिक सफर पर एक नजर...

2009- कांग्रेस के टिकट पर लड़ते हुए कडप्पा से सांसद बने।

2010- 15वीं लोकसभा से इस्तीफा दिया।

2011- एक बार फिर लोकसभा का उपचुनाव जीतकर सांसद बने।

मार्च 2011- वाईएसआर कांग्रेस नाम से नई पार्टी का गठन किया।

2014- विधायक चुने गए

16 मई 2014 से वे विधानसभा में विपक्ष के नेता हैं।

साल 2014 के लोकसभा में वाईएसआर कांग्रेस के 4 सांसद चुने जाते हैं।

आंध्र प्रदेश विधानसभा में वाईएसआर के 66 विधायक जीतते हैं।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story