कोरोना के नये वेरिएंट डेल्टा प्लस से देश में दर्ज हुई पहली मौत, उज्जैन में महिला ने दम तोड़ा

कोरोना के नये वेरिएंट डेल्टा प्लस से देश में दर्ज हुई पहली मौत, उज्जैन में महिला ने दम तोड़ा

मध्य प्रदेश ने बुधवार को SARS-CoV-2 के डेल्टा प्लस स्वरूप से जुड़ी अपनी पहली कोविड -19 मौत की सूचना दी। मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस स्वरूप से दो लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है जिनमें से एक महिला की 23 मई को मौत हो चुकी है।

मध्य प्रदेश ने बुधवार को SARS-CoV-2 के डेल्टा प्लस स्वरूप से जुड़ी अपनी पहली कोविड -19 मौत की सूचना दी। मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस स्वरूप से दो लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है जिनमें से एक महिला की 23 मई को मौत हो चुकी है। यह जानकारी जिला प्रशासन ने बुधवार को दी। अधिकारी ने बताया, ‘‘महिला मरीज की मौत पाटीदार अस्पताल में 23 मई को कोरोना वायरस से हुई थी।उसके नमूने को 14 अन्य लोगों के नमूनों के साथ अनुवांशिकी अनुक्रमण के लिए भोपाल स्थित प्रयोगशाला भेजा गया था।

 

इसे भी पढ़ें: छत्तीसगढ़: एक महिला नक्सली समेत दो इनामी नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण

 

इन 15 नमूनों में से दो लोगों में डेल्टा प्लस के संक्रमण की पुष्टि हुई।’’ हालांकि, जिला प्रशासन ने यह नहीं बताया कि नमूनों की अनुवांशिकी अनुक्रमण की रिपोर्ट कब मिली। प्रशासन ने कहा कि इन दोनों मरीजों के संपर्क में आए 21 लागों की आरटी-पीसीआर जांच की गई लेकिन कोई कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं मिला। उज्जैन के कलेक्टर आशीष सिंह ने कहा कि डेल्टा प्लस से जिले में खतरा नहीं है लेकिन लोगों को एहतियातों का अनुपालन करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: भारत श्रम बल भागीदारी में स्त्री-पुरूष अंतर कम करने के लिए सामूहिक प्रयास कर रहा: गंगवार 

 

मध्य प्रदेश में अब तक डेल्टा प्लस संस्करण के कुल पांच पुष्ट मामले सामने आए हैं। इनमें से तीन मामले भोपाल और शेष उज्जैन से सामने आए। एमपी में पांच कोविड रोगियों में से जिन्होंने डेल्टा प्लस संस्करण को अनुबंधित किया, चार ठीक हो गए, जबकि एक महिला ने वायरस के कारण दम तोड़ दिया। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।