महाराष्ट्र के राज्यपाल ने उपराष्ट्रपति से कहा, सांसदों के शपथ-ग्रहण के लिए परामर्श जरूरी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 25, 2020   19:29
महाराष्ट्र के राज्यपाल ने उपराष्ट्रपति से कहा, सांसदों के शपथ-ग्रहण के लिए परामर्श जरूरी

कोश्यारी को लगता है कि कुछ नव निर्वाचित संसद सदस्य और विधायक शपथ-ग्रहण की के निर्दिष्ट प्रारूप से हटकर शपथ लेते समय अपनी पार्टी के नेताओं के नाम या सम्मानित हस्तियों के नाम जोड़ रहे हैं।

मुंबई। महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने शनिवार को उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से सांसदों के शपथ ग्रहण की शुचिता बनाये रखने के लिए परामर्श जारी करने का अनुरोध किया। कोश्यारी को लगता है कि कुछ नव निर्वाचित संसद सदस्य और विधायक शपथ-ग्रहण की के निर्दिष्ट प्रारूप से हटकर शपथ लेते समय अपनी पार्टी के नेताओं के नाम या सम्मानित हस्तियों के नाम जोड़ रहे हैं।

हाल ही में राज्यसभा के सभापति नायडू ने भाजपा के उदयनराजे भोसले द्वारा हाल ही में राज्यसभा के सदस्य के तौर पर शपथ लेने के बाद ‘जय हिंद, जय महाराष्ट्र, जय भवानी, जय शिवाजी’ जैसे नारे लगाये जाने पर आपत्ति जताई थी। इसी पृष्ठभूमि में राज्यपाल ने राज्यसभा और लोकसभा के पीठासीन अधिकारियों को पत्र लिखकर अपनी मांग की है। राजभवन ने एक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि शपथ-ग्रहण की प्रक्रिया की शुचिता और गरिमा बनाए रखने के लिए ऐसे परामर्श और निर्देश जरूरी हैं। 

इसे भी पढ़ें: केवल भिखारियों को नहीं दे सकते दोष, सभ्य लोग भी सामाजिक दूरी का नहीं करते पालन: HC

उन्होंने कहा, ‘‘शपथ-ग्रहण के प्रारूप में पार्टी नेताओं या अन्य किसी व्यक्ति जिसके प्रति सदस्य की आस्था हो, का नाम जोड़ना शपथ लेने की प्रक्रिया की शुचिता का उल्लंघन है।’’ कोश्यारी ने लिखा कि उन्हें महाराष्ट्र में कुछ सदस्यों के मंत्रियों के रूप में शपथ लिये जाते समय व्यक्तिगत रूप से हस्तक्षेप करना पड़ा था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।