अश्लील तस्वीरें दिखाकर नाबालिग लड़की का करता था रेप, आरोपी को सुनाई गई कठोर सजा

arrest
नाबालिग लड़की का यौन उत्पीड़न करने के आरोप में व्यक्ति को छह महीने जेल की सजा सुनाई गई है। विशेष लोक अभियोजक रेखा हिवराले ने अदालत को बताया कि घटना उस वक्त की है जब पीड़िता 12 साल की थी और जिला परिषद स्कूल की कक्षा 6 में पढ़ती थी।

ठाणे (महाराष्ट्र)। महाराष्ट्र की एक अदालत ने 2013 में एक नाबालिग लड़की का यौन उत्पीड़न करने के मामले में एक व्यक्ति को छह महीने के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (पॉक्सो) कानून के तहत मामलों की सुनवाई करने वाले विशेष न्यायाधीश वी वी वीरकर ने बुधवार को अपने आदेश में ठाणे के भिवंडी तालुका के आरोपी गोत्या उर्फ उमेश बलिराम वाघे (28) पर 5,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया। हालांकि, अदालत ने संदेह का लाभ देते हुए मामले में चार अन्य आरोपियों को बरी कर दिया।

इसे भी पढ़ें: बीरभूम हत्याकांड : टीएमसी प्रतिनिधिमंडल ने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल को हटाने की मांग की

विशेष लोक अभियोजक रेखा हिवराले ने अदालत को बताया कि घटना उस वक्त की है जब पीड़िता 12 साल की थी और जिला परिषद स्कूल की कक्षा 6 में पढ़ती थी। लड़की जब शौचालय जाती थी तो आरोपी उसका पीछा करता था, उसे अश्लील तस्वीरें दिखाता था और उसके साथ छेड़छाड़ करता था। आरोपी द्वारा 10 अक्टूबर 2013 को फिर से छेड़छाड़ किए जाने के बाद लड़की ने स्कूल जाने से इनकार कर दिया। जब लड़की की मां ने पूछताछ की तो उसने घटना की जानकारी दी। घटना की जानकारी लेने के लिए आरोपी के घर जाने पर पीड़िता के परिवार वालों को धमकाया गया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़