हिंसक घटनाओं को लेकर मायावती ने की सरकार की आलोचना, बोलीं- सख्त कदम उठाए जाने चाहिए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 10, 2021   12:22
हिंसक घटनाओं को लेकर मायावती ने की सरकार की आलोचना, बोलीं- सख्त कदम उठाए जाने चाहिए

बसपा अध्यक्ष मायावती ने एक ट्वीट में उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी की घटना का जिक्र करते हुए कहा लखीमपुर खीरी जघन्य काण्ड में केन्द्रीय मंत्री (गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा) के बेटे का नाम सुर्खियों में आना भाजपा सरकार की कार्यशैली पर अनेक सवाल खड़े करता है।

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने राजस्थान, उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी और जम्मू-कश्मीर में हाल में हुई हिंसक वारदातों के लिए संबंधित सरकारों की आलोचना की। मायावती ने रविवार को सिलसिलेवार ट्वीट में राजस्थान के हनुमानगढ़ में दलित की पीट-पीट कर हत्या के मामले में राज्य की सत्तारूढ़ कांग्रेस सरकार की कथित चुप्पी’ पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा राजस्थान के हनुमानगढ़ में दलित की पीट-पीट कर की गई हत्या अति-दुखद व निन्दनीय है, लेकिन कांग्रेस आलाकमान चुप क्यों? क्या छत्तीसगढ़ व पंजाब के मुख्यमंत्री वहाँ जाकर पीड़ित परिवार को 50-50 लाख रुपये की मदद देंगे? बसपा जवाब चाहती है। वरना दलितों के नाम पर घड़ियाली आँसू बहाना बन्द करें। 

इसे भी पढ़ें: निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर एजेसियों के सर्वे पर रोक लगाने की मांग करेंगे: मायावती 

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी की घटना का जिक्र करते हुए कहा लखीमपुर खीरी जघन्य काण्ड में केन्द्रीय मंत्री (गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा) के बेटे का नाम सुर्खियों में आना भाजपा सरकार की कार्यशैली पर अनेक सवाल खड़े करता है। ऐसे में भाजपा अपने मंत्री से खुद ही इस्तीफा ले तभी वहाँ पीड़ित किसानों को कुछ न्याय की उम्मीद हो सकती है। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने जम्मू कश्मीर में हाल में आतंकवादियों द्वारा दो लोगों की हत्या किए जाने का मामला उठाते हुए कहा जम्मू-कश्मीर में आए दिन आतंकियों द्वारा की जा रही निर्दोष लोगों की हत्या अति दुखद व शर्मनाक है। बसपा केन्द्र सरकार से सख्त कदम उठाने की मांग करती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...