• मिशन 2022 में जुटे अखिलेश यादव, बसपा के 9 बागी विधायकों से की मुलाकात, जल्द सपा में होंगे शामिल !

आगामी विधानसभा चुनाव से पहले अखिलेश यादव बसपा से निकाले गए सभी 9 विधायकों को अपने पाले में करने की कोशिश कर रहे हैं और जल्द ही उन्हें पार्टी की सदस्यता भी ग्रहण करा सकते हैं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाला है। जिसको लेकर राजनीतिक गतिविधियां तेज हो गई हैं। समाजवादी पार्टी प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मंगलवार को बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के बागी विधायकों के साथ मुलाकात की है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक अखिलेश यादव ने विधानसभा चुनाव के विषय पर बागी विधायकों के साथ घंटों चर्चा की है। 

इसे भी पढ़ें: क्या UP में फिर साथ आएंगे चाचा-भतीजा? चुनाव में मुलायम की भूमिका पर अखिलेश ने दिया यह जवाब 

सपा में शामिल होने की संभावना

चुनावों से पहले अखिलेश यादव बसपा से निकाले गए सभी 9 विधायकों को अपने पाले में करने की कोशिश कर रहे हैं और जल्द ही उन्हें पार्टी की सदस्यता भी ग्रहण करा सकते हैं। बताया जा रहा है कि बागी विधायकों को अखिलेश यादव आगामी चुनावों में अपना उम्मीदवार भी बना सकते हैं। हालांकि अभी इस विषय में कोई भी आधिकारिक टिप्पणी सामने नहीं आई है।

राज्यसभा चुनाव के समय अखिलेश यादव ने बसपा में सेंधमारी करने की कोशिश की थी। जिसकी वजह से मायावती ने 7 विधायकों को पार्टी से निष्कासित कर दिया था और फिर पंचायत चुनाव के समय पार्टी विरोधी गतिविधियों का हवाला देते हुए मायावती ने दो और विधायकों को निष्कासित किया था। ऐसे में अखिलेश यादव निष्कासित विधायकों को अपने पाले में लाने का कोई भी चांस मिस नहीं करना चाहते हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अखिलेश यादव ने कहा कि बागी विधायकों के आने से समाजवादी पार्टी को बल मिलेगा और फिर उनके सहयोग से मिशन 2022 को पूरा करेंगे। तब जाकर समाजवादी पार्टी की सरकार बनेगी। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा की गलत आर्थिक नीतियों के शिकार हुए करोड़ों व्यापारी : अखिलेश यादव 

अखिलेश ने इन विधायकों से की मुलाकात

बसपा के बागी 9 विधायकों में असलम राइनी (भिनगा - श्रावस्ती), हरगोविंद भार्गव (सिधौली - सीतापुर), असलम अली चौधरी (ढोलाना - हापुड़), सुषमा पटेल (मुंगरा - बादशाहपुर), मुज़्तबा सिद्दीकी (प्रतापपुर - इलाहाबाद), वंदना सिंह (सगड़ी-आजमगढ़), हाकिम लाल बिंद (हांडिया - प्रयागराज), रामवीर उपाध्याय (सादाबाद) तथा अनिल सिंह (उन्नाव) शामिल हैं। जिन्होंने समाजवादी पार्टी के दफ्तर में अखिलेश यादव से मुलाकात की।