मंकीपॉक्स प्रकोप : बिहार सरकार ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और अस्पतालों को सचेत रहने का निर्देश दिया

Monkeypox Rash
Google Creative Commons
बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने दुनिया भर में मंकीपॉक्स के बढ़ते मामलों के बीच अधिकारियों को मंकीपॉक्स के लक्षणों और उपचार के बारे में लोगों में जागरूकता फैलाने का निर्देश दिया है। भारत में अब तक मंकीपॉक्स के कुल चार मामले सामने आए हैं।

पटना। दुनिया भर में मंकीपॉक्स के बढ़ते मामलों के बीच बिहार सरकार ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और अस्पतालों को अलर्ट पर रहने का निर्देश दिया है।

राज्य के स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को कहा, ‘‘बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने अधिकारियों को मंकीपॉक्स के लक्षणों और उपचार के बारे में लोगों में जागरूकता फैलाने का निर्देश दिया है।’’

स्वास्थ्य मंत्री ने सोमवार को स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की और उन्हें केंद्र सरकार और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के दिशा-निर्देशों के अनुसार आम जनता को मंकीपॉक्स के लक्षणों के बारे में जागरुक करने का निर्देश दिया।

स्वास्थ्य अधिकारियों को निगरानी बढ़ाने और मंकीपॉक्स प्रभावित देशों के रोगसूचक यात्रियों को अलग करने और उनके नमूने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे को भेजने के लिए कहा गया है।

मंत्री ने स्वास्थ्य अधिकारियों को मौजूदा संक्रामक बीमारी से निपटने के लिए मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) का पालन करने का निर्देश दिया है।

कई देशों में मंकीपॉक्स के मामले प्रकाश में आने पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों को अस्पतालों को निर्देश दिया कि वे रोगसूचक रोगियों पर नजर रखें जिन्होंने हाल ही में प्रभावित देशों की यात्रा की है। भारत में अब तक मंकीपॉक्स के कुल चार मामले सामने आए हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़